Challenges of Overcoming Religions to Advance India’s Traditions for the Global Welfare

-Prof. Bal Ram Singh

अपि स्वर्णमयी लङ्का न मे लक्ष्मण रोचते |

जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी ||

Api Swarnamayī Lankā na me Lakshmaṇa rochate
Jananī Janmabhumiścha Swargādapi Garīyasī 

These words are believed to have been uttered by Śri Rām towards end of his exile, after he had killed Rāvaṇa, and when he was told that Rāvaṇa’s brother, Vibhīṣaṇa, offered Rāma to enter the Lankā of golden structures and buildings and rule from there.

Not that he could not have said the same while in Ayodhyā, his utterance in Lankā, away from home assumes significance as he had in effect had become a non-resident Indian (NRI) who in modern times are away from the place of their birth, away from parents and families, and away from their culture.”

Much to be learned from following all faiths

In modern times, religion has become an instrument of utility, available to people of different interests and agenda to appropriate and exploit. Far from its actual meaning and intent, human beings are being denigrated, subjugated, and manipulated all in the name of religion. Religion originates from Re + legion, meaning re-association with the Supreme or God. That meaning establishes a spiritual journey as the purpose of religion. However, most religions, especially organized religions are nothing more than management of people. No wonder politicians and other power structures have been taxing religions to their purpose for the past two thousand years. After crusade, inquisition, and forced conversion by marching armies, proselytization through inducement, bluff, and exploitation of circumstances such as tsunami has come to the fore in recent years, especially in the Third World. During my recent trip to my village in Uttar Pradesh in India, I learned of conversion of eight Harijan families in a nearby village after orchestrated diagnosis and cure of ‘cancer’ with the prayer of Ishu (Jesus). This incident reminded me of my own encounter with an evangelist in my university who used to deliver goods from receivables. Francis was always hanging around with international graduate students trying to give them a Bible or entice them to a Church visit. One day I walked into the laboratory even as Francis was talking to students. As I entered the lab, a student told Francis jokingly “why don’t you convert Dr. Singh and we will all follow?” “So, Dr. Singh, what do you think of Jesus Christ?” asked Francis turning towards me. “Jesus Christ was a great man, I am his ardent follower,” I replied. “So, you are a Christian?” Francis uttered hesitatingly. I said, “Sure, following Jesus Christ does make me a Christian, as much as following Newton makes me Newtonian.” Not convinced of my assertion, Francis continued with his inquiries further. “What church do you go to?” asked Francis. “What church did Jesus Christ go to?” I shot back, and Francis looked quite puzzled at this but continued his query by saying, “O, so you read Bible on your own.” “What Bible did Jesus Christ read?” I asked Francis. He was completely at a loss. “How can you be a Christian without going to Church or reading a Bible?” he muttered shaking his head in exasperation. “Francis, I am not a Churchian or Biblian, I am a Christian.” By then Francis seemed to be in a daze, simply gazing at me. Acting professorial and assuring him of my genuine intentions I began. “Look, Jesus Christ was concerned about others passionately. He stood up for his principles against all odds. He was willing to die for his principle of serving others. He did not hate even those who killed him, and wished them well.” Francis nodded at each of my statements about Jesus Christ. “I think those principles are worth following for anybody,” I added. “Why do I need a Church or Bible to follow them?” By then Francis seemed accepting, albeit reluctantly. Similarly, I am asked many times about religions in India, my own religion, and my opinion of Islam, especially after 9/11. At the Center for Indic Studies, we have much emphasis on Indic traditions, some ancient, some modern, and occasionally discussions about other traditions within India. About six months ago, after a bit of contentious panel discussion at our campus, I had to formulate my thoughts of my understanding of and relationship with Islam within the Indic tradition. I told a Muslim student on my campus that I am really trying to be a Musalmaan, the word commonly used for Muslims in India. He was quite puzzled, but curious to know my view further. “See, Musalmaan word is made of two words – Musallum + Imaan,” I continued. “Musallum means total and Imaan means honest. So, I really see the fundamental point of being a Musalmaan is to be totally honest, and I find that concept to be very attractive.” “However, the problem is that there is no true Musalmaan in the whole world,” I continued. The student asked me, “What about Hindus? What are they supposed to be and do?” “Oh, yes. I am a Hindu by birth. But it is equally hard to find a Hindu.” He seemed quite perplexed, and ready to hear my views on Hinduism. “You see, Hindus are supposed to see Iśwara or God in everyone and everything, and thus love them all equally and infinitely. Unfortunately, I have not met even one Hindu in my life.” Religious tension and tyranny seen now throughout the world, and in fact throughout history, have almost nothing to do with true meanings of religion. The discrimination, destruction, oppression, and atrocities in the name different religions originate in ignorance, greed, and ego. There is much to be learned by following Jesus Christ, trying to be a Musalmaan, and in being a Hindu, and these are not mutually exclusive concepts. This idea must be asserted in the world by young and old alike, and that is a challenge for the 21st century.

Postscript

Whatever is even left over culture of India, with connection of people with nature (Vāsudhaiva kuṭumbakam), accepting people for whatever they are (Ekam sat viprah bahudhā vadanti), following the truth of deeds rather than that of creeds (Satyameva jayate), embracing death rather than avoiding it (Mokṣa, or Sallekhana in Jainism), the world is manifestation of self (Ekoaham bahushyāmi), the entire universe is within us (Yad pinde tad brahmāṇde), etc. is perhaps the only hope to solve multifarious problems the world is facing today. India needs to expand its ideas, practice, and propagate in the world, through education, economics, and healthcare, the basic needs of people. No need to become parochial because other exclusive traditions have been like that. The new generation of India needs to bold and go where its immediate past generations have not gone before. In other words, become NRI!!

Indian culture was rampant throughout the world when even Europeans worshiped trees, a tradition to celebrate winter solstice, was adopted by Christian missionaries Christmas tree to falsely celebrate birth of Jesus (https://www.history.com/this-day-in-history/christ-is-born).

Editor’s note – Above write up is an excerpt from the book ‘A Different Take – An NRI View of India in the Tradition of Ram, Krishn, and Gandhi

Prof. Bal Ram Singh, President, Institute of Advances Sciences, Dartmouth, MA, USA and Editor-in-Chief, Vedic Blog

पुस्तक की नियति

-डा. प्रवेश सक्सेना

भारत हो या विश्व के अन्य कोई देश, सर्वत्र पुस्तक आरंभिक दिनों में कहीं जीवित व्यक्तियों के रूप में, भोजपत्रों, पत्थरों या मिट्टी की गोलियों के रूप में या पिफर चर्म और धातुओं पर अंकित या उकेरी रही है। परिवर्तन संसार का शाश्वत नियम है। मानव जीवन के हर क्षेत्र में परिवर्तन होता है तो पुस्तक के क्षेत्र में भला क्यों नहीं होता? काग़ज़ के आविष्कार और मुद्रण कला ने क्रांतिकारी परिवर्तन किए हैं पुस्तक के रूप में। सबसे बड़ा परिवर्तन जो 20वीं सदी के अंत में कंप्यूटर और इंटरनेट ने किया और अब जो ‘ई-बुक’ का आधुनिकतम आविष्कार हुआ है, उसने तो न केवल पुस्तक का कलेवर बदला है, लेखक, पाठक, प्रकाशक और पुस्तकालय सबके समीकरण बदल डाले हैं।

पुस्तक के भविष्य को लेकर इस युग में प्रायः समाचार-पत्रों या पत्रिकाओं में इतस्ततः चिंता व्यक्त की जाती है। पुस्तकें गायब हैं? पुस्तक की मृत्यु हो चुकी है? आदि नकारात्मक बातें इस साइबर युग में बार-बार पढ़ी-सुनी जाती हैं? इक्कीसवीं सदी के इस साइबर युग में जबकि इंटरनेट, किंडल, ई-बुक आदि का प्रचलन बढ़ता जा रहा है तो पुस्तक के भविष्य को लेकर चिंता होना स्वाभाविक है। क्या होगा मुद्रित पुस्तक का भविष्य? क्या वह अजायबघर की एक वस्तु बनकर रह जाने वाली है? फिर पुस्तक की नियति के बारे में और भी प्रश्न मन में घुमड़ने लगते हैं? कैसे वह अस्तित्व में आई, कैसे मनुष्य ने लिखना सीखा, प्रथम पुस्तक प्रस्तर पर लिखी गई या भोजपत्र पर, काग़ज़ कब, कहाँ से आया? आदि-आदि। प्रथम मुद्रित पुस्तक किस भाषा में थी, क्या नाम था उसका? अर्थात् ‘पुस्तक की नियति’ को लेकर उसके ‘कल, आज और कल’ से संबंधित प्रश्न अगणित हैं। दूसरी ओर जब दिल्ली पुस्तक मेले या विश्व पुस्तक मेले लगते हैं तो ‘किताबें लौट आई हैं’ जैसे सकारात्मक शीर्षक भी नज़र आते हैं। जो भी हो 20वीं सदी के अंत और 21वीं सदी के इन प्रारंभिक दशकों में पुस्तक को लेकर चिंता व्याप्त है। कारण प्रथम तो यही कि कंप्यूटर, इंटरनेट और ई-बुक ने मुद्रित पुस्तक को पीछे छोड़ दिया है। द्वितीय कारण पठनीयता कम से कमतर होती गई है। यही सब कारण रहे कि ‘पुस्तक की नियति’ पर कुछ लिखने का मन बना।

पुस्तक की नियति के बारे में सोचते ही प्रश्न उभरते हैं कैसे वह अस्तित्व में आई, कैसे मनुष्य ने लिखना सीखा, प्रथम पुस्तक प्रस्तर पर लिखी गई या भोजपत्र पर? काग़ज़ कब, कहां से आया आदि-आदि? इन सब प्रश्नों के उत्तर खोजने के लिए अतीत के गर्भ में जाना जरूरी था। प्रागैतिहासिक काल में कैसे मनुष्य ने भाषा को सीखा, लिखना सीखा आदि प्रश्नों के उत्तर टटोलने ज़रूरी थे। इसलिए जितना संभव था उतना ढूँढ़ने की कोशिश की। आश्चर्य हुआ यह जानकर कि पुस्तक के जन्म या विकास को लेकर कुछ विश्वकोशों से सहायता भले ही मिल जाए परंतु ‘पुस्तक पर पुस्तक’ कहीं नहीं मिलती। दूसरे शब्दों में कह सकते हैं कि पुस्तक के जन्म और विकास की गाथा के सूत्र जहाँ एक साथ मिल सकें-ऐसी कोई ‘पुस्तक’ पुस्तक पर नहीं मिलती है।

अनेक पुस्तकालयों के चक्कर काटे। प्रकाशकों से संपर्क किया परंतु निराश होना पड़ा। हिंदी भाषा में तो इस प्रकार की पुस्तक मिली ही नहीं। हाँ, साहित्य अकादमी में ज़रूर एक अंग्रेज़ी ग्रंथ मिला पर उसमें संस्कृत, हिंदी का उल्लेख तो था ही नहीं अंग्रेज़ी साहित्य की पुस्तकों का ही उल्लेख था। पुस्तक के जन्म और विकास की गाथा का उल्लेख भी कुछ विशेष नहीं था।

एक पुस्तक एम. आइलिन की प्राप्त हुई, जिसका अंग्रेज़ी शीर्षक था ‘Black on White’ यह भी मूल रूप में नहीं मिली। ‘पुस्तक के जन्म और विकास की कहानी’ शीर्षक से जितेन्द्र शर्मा ने इसका रूपांतरण किया है और कौस्तुभ प्रकाशन, हापुड़-245101 ने इसे सन् 2010 में छापा है। अत्यंत रोचक तरीके से इस रूपांतरित पुस्तक में पुस्तक की गाथा वैश्विक संदर्भ में लिखी गई है। आश्चर्यजनक बात लगती है यह कि यहाँ संस्कृत जो कि विश्व की प्राचीनतम भाषा सर्वस्वीकृत है तथा ऋग्वेद जो विश्व-पुस्तकालय की प्राचीनतम लिखित पुस्तक मानी जाती है उसका उल्लेख तक नहीं। भाषा के अक्षरों तथा अंकों की खोज का श्रेय फोनिशियंस जो सेमिटिक जाति के थे, उन्हें दिया गया है। विश्वास है यह किसी पूर्वाग्रह या दुराग्रह के कारण नहीं हुआ होगा, संभवतः लेखक या रूपांतरकार दोनों ही संस्कृत से परिचित नहीं रहे होंगे। 

भारतीय संदर्भों में वेद मौखिक परंपरा से पीढ़ी दर पीढ़ी पहुँचे, ज्ञान दर्शन सबका संप्रेषण गुरु-शिष्य परंपरा से हुआ ज़रूर परंतु उस सुदूरकाल में लेखनकला भी उसके समानांतर चलती रही। पुस्तक के जन्म के या मूल के प्रसंग में इसे जानना रोचक और ज्ञानवर्धक रहा है। इसके लिए पुरातात्त्विक साक्ष्य जैसे शिलालेख आदि तो हैं ही साथ ही प्राचीन वाङम्य में अनेक अंतःसाक्ष्य भी उपलब्ध हैं।

इन्हीं सब विचारों को समेटे हुए तथा पुस्तक के प्रति आशावादी सोच रखते हुए ‘पुस्तक की नियति’ नामक पुस्तक को लिखने का विचार आया। कुल बारह अध्यायों में पुस्तक के मूल, उसके लेखक, पाठक और यहाँ तक कि लेखन सामग्री और पुस्तकालयों तक पर विस्तार से चर्चा; ई-बुक का चमत्कारपूर्ण संसार; समय-समय पर कथित विद्वानों द्वारा पुस्तक के महत्त्व के विषय में टिप्पणियाँ; पुस्तक को लेकर संस्कृत और हिंदी की कुछ कविताओं का संकलन; पुस्तक के विषय में प्राप्त रोचक तथ्य आदि का वर्णन है। कुल मिलाकर कहें तो यह ‘पुस्तक’ इस क्षेत्र में एक बड़े शून्य को भरती है।

इस कार्य द्वारा भारतीय और वैश्विक दोनों संदर्भों में ‘पुस्तक की नियति’ को जानने-समझने की कोशिश की गयी है। मेरा मानना है –

‘पुस्तक की नियति’ : पुस्तक थी, है और हमेशा रहेगी।

Dr. Pravesh Saxena, Former Associate Professor, Sanskrit, Zakhir Hussain College, University of Delhi

Connecting with Mā Gangā

Ms. Neera Misra

Introduction

Gangā! The very name creates a sense of sanctity, devotion and reverence. It is the only flowing body of sacred waters whose history of origin through superhuman efforts, has been immortalized in legendary films and arts, and termed Gangā Avtaraṇa or even as Bhāgiratha Prayathna. We get a detailed description of Gangā Avtaraṇa  in Srimad Vālmīki Ramāyana.

कथं गङ्गावतरणं कथं तेषां जलक्रिया….॥ (बालकाण्ड, द्विचत्वारिंश सर्ग ६)

भगीरथस्तु राजर्षिर्धार्मिको…..राज्यं गङ्गावतरणे रत:॥ (वही, ११-१२)

(Source of Image : ‘Gangā Avtaraṇa गङ्गावतरण ‘ – A famous painting by Sh. Raja Ravi Verma

The water deity, identified with ‘makara’ at her feet, brings with it unique power of salvation from sins. It is the spiritual river that has defined Bhārata’s culture and civilization since time immemorial.

The Gangā occupies an unrivalled position among the rivers of the world. No other river is so closely identified with a country as the Gangā is with India’, says Jagmohan Mahajan in Gangā Observed (Foreign accounts of the river). ‘Cities and pilgrimage centers teeming with temples and shrines have sprung up all along its course (milestones in the history of the land and the growth of Indian civilization). The Gangetic plain has indeed been the pole towards which the political, economic and religious life of the country has gravitated’.  Gangā is much more.

‘पतित पावनी जीवनदायनी’ Mā Gangā is integral to us from birth to death. Its water is used at every ceremony for purification, as a charm to ward off evil spirits, sprinkled at weddings over the bride and bridegroom, and dropped into the mouths of the dying, and also serving as a medium for oath taking. Geographer Strabo calls it ‘the largest river’. The English traveller Thomas Coryat, who visited India from 1612 to 1617, has called it ‘the captains of all rivers in the world’.

Yet this water of life and death is not just a naturally existing river as perceived by many. Descending from the heavens as rain, she was created as a channel for human salvation with the vision of Solar Dynasty King Sagara and his five generations of descendants, a task finally accomplished by Bhāgiratha with the blessings of Lord Shiva. Gangā is not just flowing waters but divine waters endowed with unique properties for our ‘mokṣa’. Some scholars believe that our current understanding and approach to ‘river’ is based on European ideas and very different from what ancient seers of Bhārata conceived. Dilip da Cunha, in his book ‘The Invention of Rivers: Alexander’s Eye and Gangā’s Descent‘, (published 2018 November by the University of Pennsylvania) attributes the colonial understanding of river and banks, the separation of land and water, to be derivative from Alexander’s concept and ancient Greek cartography. He explains ‘Although Alexander the Great never saw the Ganges, he conceived of it as a flowing body of water, with sources, destinations, and banks that marked the separation of land from water. This Alexandrine view of the river, as per Dilip da Cunha ‘has been pursued and adopted across time and around the world.

Dilip da Cunha, indirectly agrees with the Vedic view that Gangā descended from heavens, when he argues that ‘the articulation of the river Ganges has placed it at odds with Gangā, a “rain terrain that does not conform to the line of separation, containment, and calibration that are the formalities of a river’ He explains  that ‘What we take to be natural features of the earth’s surface, according to da Cunha, are products of human design’, thus again authenticating the ‘itihāsa’ of Sagar and Bhāgiratha.

In the 4th century BC, Megasthenes came from Greece as ambassador to the court of Chandragupta Maurya, leaving the first detailed account of India by a foreign visitor. He noted that the Indians worshipped the rain-bringing Zeus (Indra), the Gangā River and local deities. The Arthashastra of Kautilya mentions that ‘during drought shall Indra, the Gangā, mountains and Mahakachha (sea or ocean) be worshipped. Textual references prove that the Gangā is actually channeled rainwater (Ṛgveda 1.32.11-12).

इन्द्रो यद् वॄत्रमवधीन्नदी….| (ॠग्वेद १.५२.२)

Mysterious purifying powers

Gangā that we revere is the very special living divine liquid energy with mysterious purifying properties. This unique and mystifying trait of the Gangā has intrigued modern scientists for long but till date none have succeeded in decoding the Gangā’s spiritual powers.

Mark Twain notes that a scientist named Mr. Henkin, who was employee of the government of Agra, concluded experiments to examine the water. He went to Banāras for his tests and took water from the mouths of the sewers where they empty into the river at the bathing-ghāts; Tests revealed that a cubic centimeter of it contained millions of germs; but at the end of six hours they were all dead. He then also caught a floating corpse, towed it to shore, “ … and from beside it he dipped up water that was swarming with cholera germs; at the end of six hours they were all dead’ writes J Mahajan (Virgo Publication, 1994). Repeatedly, he took pure well-water which was barren of animal life, and put into it a few cholera germs, they always began to propagate at once, and always within six hours they swarmed- and were numerable by millions upon millions.

Europeans wondered, as many of us still do, ‘how did they find out the water’s secret in those ancient ages? Had they germ-scientists then? We do not know. We only know that they had a civilization long before we emerged from savagery’ (Mark Twain: Following the Equator, 1897).

(Source of image : ‘Devprayāg’ where the Bhāgirathi joins Alakhnandā to form Gangā. Image courtsey by Sh. Abhay Mishra)

This most telling image from Devprayāg distinctly shows here two flowing water bodies of very different colors. It is pertinent to note that this is the sacred place of the ‘divine confluence’ (Devprayāg) of two rivers that join together, creating Gangā’s emergence as the single flow towards the plains. Also, that the chemical properties of such contrasting waters will be different is clear to even an ordinary person.

How does the mixture of two or more variant waters, flowing through mineral rich pristine areas, affect the final properties of the Gangā waters that have mysterious purifying qualities? Was this confluence natural or man-made? We know of Panchprayāg (five confluences) at Uttarākhand. Waters descend crossing through Vishnuprayāg (DhauliGangā-Alakhnandā), Nandprayāg (Alakhnandā-Nandākinī), Karnaprayāg (Alakhnandā-Pindar) and Rudraprayāg where Alakhnandā meets Mandakinī.

What is the significance of the name ‘Devprayāg’ as ancient seers named people or places with certain symbolic identifications? Where or what is the initial source of the mystical properties of Gangā waters? We know that – Gangā water is always sacred as germs do not develop in it. Gangā water is always pure. It has medicinal properties in it. This drinking water has divine traits as stated in ancient texts –

शं नो देवीरभिष्टय आपो भवन्तु पीतये शं योरभि स्रवन्तु न:। (ॠग्वेद १.९.४)

Germ free pure water is also mentioned –

यथोदकं शुद्धे शुद्धमासिक्तं तादृगेव भवति। (कठोपनिषद् २.१.१५)

It is notable that where the Gangā waters fall on Hemkunt as spring,  gold particles are found there. In several places in the Gangā valley there is a tradition to strain gold particles. This gold is called ‘Gangāye’ Periplus mentions this.

Gangā is called the ‘Das Pāpa Hara Devī’ as she provides solution for ten problems. Gangā Daśera is festival celebrated in recognition of Gangā’s power of washing away ten ‘Pāpa’ or sins (sin means problems). It is also mentioned by Bhojrāj (Rajmartand) [quoted in गङ्गा नदी : उद्भव एवं देवत्व – एक सांस्कृतिक यात्रा, presented by Prof. Deen Bandhu Pande, at Draupadi Dream Trust Gangā Conference, 6th Dec 2018, Delhi]. Was course of waters having divergent properties chartered to form the miracle water?

Rajnīkānt describes the ten traits of Gangā, by which it helps us keep away problems. These ten natural qualities of Gangā are –

1. शीतत्वम्, 2. स्वादुत्वम्,  3. स्वच्छत्वम् ,  4.  अत्यन्तरुचत्वम् , 5. पत्थ्यत्वम्, 6. पावनत्वम्  7. पापहारित्वम्,  8. तृष्णामोहध्वंसनत्वम् 9. दीपत्वम्, 10. प्रज्ञाधारित्वम्.

As the British interests in India increased, they also started exploring its natural resources. Gangā, Yamuna, Brahmaputra and other rivers originating from the Himalayas attracted their attention, during 1800s and early part of 1900s. British surveyors surveyed these rivers comprehensively, and Sir William Willcox, the Director General of Irrigation of India has, in his book, shows his understanding of high standards of ancient documentations. He writes that Indian ancient writers wrote about physical facts in a spiritual manner. Regarding the rivers he states that every flow which went southwards whether, big as the Bhagirathi or not, originally started as a canal and that these canals were lined out, dug and placed just at the distance that canals should be placed. Sir William Willcox reasons that Gangā or the River Bhāgirathī was a canal constructed by our ancient visionaries. The bringing of the Gangā from the heights of Meru to the plains of India would be the greatest accomplishment of engineering in India, or even in human history.

Divine water

What is the mystery of this Divine water?

Modern scientists are gradually realising the science of Ayurveda, Meditation, Yoga and even ‘ritual fasting, but will take many decades, if not centuries, to unlock all the secrets unearthed by our ancient seers. Knowledge of our Rishi’s came through centuries of penance by understanding and connecting with nature. They unravelled the depths of ‘vijñāna’ and planned for welfare of humanity.

The gospel of preventive medicine and science of life ‘Ayurveda’ is the ‘Charak Samhitā’ which means research by travelling to various parts of the land. It was not commercial exploitation as Vedic dharma is based on the principles of

सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाः
सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चिद् दुःख भाग्भवेत्।।

Gangā too was channeled from heavenly waters for the welfare of mankind. It is the perfect blend of nature and culture for social engineering the welfare of a civilization that believed in divine nature of man, nature and all earthy beings.

Gangā Mā is a marvelous gift of visionary King Sagara, dedicated efforts of his 60,000 population and sons Anshumān, Dilipa and especially Bhāgiratha, who is immortalized through Bhāgirathī river which joins Alakhnandā at Devprayāg, to finally form the Gangā we know.

Since time immemorial Mother Gangā is flowing through our heartlands and we use her pure waters for all our holy rituals. But in this auspicious Śrāvan māsa we pay special tribute to the heavenly Divine Gangā. People travel for days, covering thousands of miles up the mountains to bring the freshest waters of Gangā river to pour on Lord Shiva, thanking him for blessing us by bringing Mā Gangā to us mortals. It is like a thanksgiving celebration, so integral to our sanskriti.

Jai Mā Gange!

Om Namay Shivāye!

Ms. Neera Misra, Independent scholar on Vedic and Mahābhārata Heritage, Chairperson-Trustee Draupadi Dream Trust

ज्ञान की महिमा स्वीकार करने का दिन – गुरुपूर्णिमा

– डॉ. शशि तिवारी

गुरुब्रह्मा गुरुर्विष्णु: गुरुर्देवो महेश्वर: |

 गुरु: साक्षात् परब्रह्म तस्मै श्री गुरवे नमः ||

’उस गुरु को प्रणाम है जो ब्रह्मा है, जो विष्णु है और जो महेश्वर का रूप है। साक्षात् परमब्रह्म गुरु ही है।’ इसी तरह एक हिंदी दोहे में कहा गया है कि-

गुरु गोविंद दोनों खड़े काके लागू पांव ।

बलिहारी गुरु आपने जिन गोविंद दियो बताए ॥

‘यदि गुरु और गोविन्द दोनो खडे हों तो किसके पैर छुएं ? मैं तो गुरु की बलिहारी जाऊंगा  जिन्होंने गोविन्द के बारे में बताया।’

वास्तव में गुरु ब्रह्म के समान हैं; कुछ माने में उससे भी बड़े हैं क्योंकि ज्ञान का रास्ता गुरु ही बताते हैं। वेद में तो साफ-साफ निर्देश है- मातृदेवो भव, पितृदेवो भव, आचार्यदेवो भव । ’माता, पिता और आचार्य का सम्मान करने वाले बनो’। संस्कृत के एक श्लोक में कहा गया है -’जो ज्ञान की शलाका से अज्ञान के अंधकार को दूर कर आंखों को खोल देता है, ऐसी श्री गुरु को प्रणाम है।’

हिंदू कैलेंडर के अनुसार प्रत्येक मास के अंतिम दिन पूर्णिमा की तिथि होती है इसे ही पूर्णमासी भी कहते हैं। यह पूर्णता की प्रतीक है। देखने की बात है कि लगभग सभी माह की पूर्णिमाएं किसी विशेष नाम से भी जानी जाती है -जैसे चैत्र मास की पूर्णिमा हनुमान जयंती,  वैसाख मास की पूर्णिमा गंगा स्नान, श्रावण मास की पूर्णिमा रक्षाबंधन या श्रावणी, आश्विन मास की पूर्णिमा शरद पूर्णिमा । आषाढ़ मास की पूर्णिमा गुरुपूर्णिमा या व्यासपूर्णिमा के नाम से जानी जाती हैं ।

गुरुपूर्णिमा उन महर्षि व्यास के नाम पर है, जिन्होंने चारों वेदों का व्यास  किया था, पंचम वेद महाभारत की रचना की थी और पुराणों का प्रणयन भी किया था। ये वेदव्यास के नाम से भी जाने जाते हैं। महर्षि व्यास एक श्रेष्ठ गुरु के प्रतिनिधि हैं। विचारणीय है कि कैसे गुरुपूर्णिमा का पवित्र दिन एक बहुत बड़ा दिन हो जाता है-  गुरु की पूजन, वंदन और विश्वास का दिन। माता-पिता के बाद यदि कोई पूजनीय माना गया है तो वह गुरु ही है। वह हमें ज्ञान देता है जिससे हमारा व्यक्तित्व विकसित होता है। भारतीय संस्कृति में ज्ञान की सर्वाधिक महत्ता है, इसीलिए समाज में गुरु का भी विशेष स्थान है। वैसे तो प्रतिदिन गुरुवन्दन करणीय है, पर  इसे समारोहपूर्वक मनाने के लिए एक दिन पर्व के रूप में रखा गया है।

पिता और गुरु अपने पुत्र और शिष्य को सब कुछ दे देना चाहते हैं । उससे पराजय की कामना करते हैं जिससे उनका यश हो। कभी पिता लोभवश कुछ अपने पास बचा कर रख भी ले, परन्तु गुरु कभी भी कुछ भी ज्ञान अपने पास छुपा कर नहीं रखना चाहते, सब कुछ निस्पृह भाव से शिष्य को दे देना चाहते हैं उसके जीवन को विश्वास से परिपूर्ण करना चाहते हैं ।

गुरुपूर्णिमा मना कर हम अपने आदरणीय गुरुजनों को सादर स्मरण करते हैं और इस तरह् जीवन में ज्ञान की उपयोगिता को स्वीकार करते हैं। गुरुपूर्णिमा अप्रत्यक्ष रूप से उदात्त चरित्र, अनुशासित जीवन, और सम्यक ज्ञान की महिमा स्वीकार करने का दिन है – तस्मै श्री गुरवे नमः

– डॉशशि तिवारी,अध्यक्षवेव्स –भारत

Sūrya Namaskār Ᾱsana (Controversy over Sūrya or God?)

Sh. Vidya Sagar Verma

Declaring International Day for Yoga is a great tribute to the seers and sages of India who propounded the Yoga Discipline.

The literal meaning of the word ‘Yoga’ is union. Union of what? Answer to this question has been given by renowned commentator on Yoga Darśana Yajñyavalkya: Samyogo Yoga Ity Ukto Jivātma-Paramātmanoriti, i.e., Yoga is the union of Soul and God. There is a divine spark in all of us and that, because of ignorance, we are not aware of it and, hence, the advice is to know ourselves. And that can be done only through Yoga. God being present everywhere is present in our souls too and can be discerned there directly.

Thus, Yoga and its purpose defined by many seers, scholars, philosophers-

Gita offers a secular definition of Yoga, viz.,

योग: कर्मसु कौशलम्

Yogah Karmasu Kaushalam

i.e., Yoga is perfection in action. By controlling the thought currents of one’s mind, one attains deep concentration on any subject matter and, thereby, attains complete knowledge of the matter pondered over.

Sage Patanjali in his Yoga-Sūtra said :

योगश्चित्तवृत्तिनिरोधः 

Yogah Chitta Vritti Nirodhah

i.e controlling the modifications / thought currents of mind is Yoga. It is a holistic system having both physical and psychological traits.

Rudolf Steiner has also said “Meditation is the way to knowing and beholding the eternal, indestructible, essential centre of our being” (https://timesofindia.indiatimes.com/edit-page/Dissolve-thoughts/articleshow/347676.cms).

Philosopher Allie M. Frazier has also defined Yoga: 

The purpose of Yoga is to unite man with the Divine Ground, with the Cosmic Consciousness. Yoga is the psychological linking of the mind to the super-ordinated principle ‘by which the mind knows’. 

Every human being possesses three things – Body, Mind and Soul (Spirit). Yoga aims at the composite development of human personality — physical, mental and spiritual. The Vedas and the Upaniśads advise ‘Ᾱtmānam Vidhi’, i.e., Know Thyself.

आत्मानं रथिनं विद्धि शरीरं रथमेव तु।

(कठोपनिषद्, अध्याय १, वल्ली ३, मंत्र ३)

To know oneself, one has to concentrate deeper inside. Performing Yoga-Ᾱsanas is not just a way to physical fitness but also helps in deliberating deeper essence of his/her body. Out of 84 Ᾱsanas of Hatha-Yoga, two are very prominent and effective — Shirṣa-Ᾱsana and Sūrya-Namaskār Ᾱsana.

The Sūrya Namaskār Ᾱsana energises the whole body, it wards off many diseases related to the spine, stomach, thyroid gland, arthritis, et al. It is, therefore, recommended that this Ᾱsana must be learnt and performed by all the practitioners of Yoga.

It is unfortunate that the Yoga Capsule devised by the Ministry of Ayush for the International Day of Yoga Celebrations, Sūrya Namaskār Ᾱsana has been excluded, whereas, in many countries, it forms a prominent part of the Yoga Demonstration on this day celebrated by almost all the countries in the world.  

The word ‘Sūrya’ in the Sūrya Namsakar does not mean Sun, but God.

सूर्यो वै सर्वे देवा:।

(शतपथ ब्राह्मण १३.७.१.५)

In the Vedas Indra, Varun, Sūrya, et al, are all the names of God and he (Sun) is worthy of being bowed to by all. Brāhmaṇas of Yajurveda narrated various references where Sūrya is said to be ‘द्वादश’.

आदित्यो  द्वादश:।

(तैत्तिरीय ब्राह्मण १.५.३.४; शतपथ ब्राह्मण ११.६.३.५)

विष्णुर्धाता भग: पूषा मित्रेन्द्रौ वरुणोऽर्यमा….॥

सूर्य (आदित्य) के बारह नाम – विष्णु, धाता, भग, पूषा, मित्र, इन्द्र, वरुण, अर्यमा, विवस्वान्, अंशुमान्, त्वष्टा, और पर्जन्य।

(ब्रह्मपुराण ३१.१७-१८)

To avoid the controversy over Sūrya Namaskār Ᾱsana, a humble suggestion is that it be renamed as Iśa Namaskār Ᾱsana as Sūrya here means God.

Prof. Max Muller’s following words in ‘India: What Can It Teach Us’ are worthy of attention: 

“They were all meant to express the Beyond, the Invisible behind the Visible, the Infinite within the Finite, the Supernatural above the Natural, the Divine, Omnipresent, Omnipotent.”

It is not only the Vedas, but many religions, philosophers and scholars declare God as the Soul of the Universe: 

All are but parts of (the Universe is) one stupendous Whole

Whose Body Nature is, and God the Soul.

— Alexander Pope (https://www.bartleby.com/360/4/13.html)

Sh. Vidya Sagar Verma, Former Ambassador

प्राणसाधना क्यों और कैसे?

डा. राजकुमारी त्रिखा

२१ जुन, २०१५ को संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा संकल्पित “अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस” ने न केवल भारत में अपितु विश्वभर में ख्याति प्राप्त की। वस्तुत: योग विद्या हमारे पूर्वजों की अत्यन्त प्राचीन और अनमोल विरासत है। आधुनिक वैज्ञानिक परीक्षणों द्वारा डाक्टरों ने योगसाधना से होने वाले अनेक शारीरिक और मानसिक लाभों को प्रमाणित किया है। उन्होंने सूर्य नमस्कार और अन्य सूक्ष्म व्यायामों के प्रभाव का योगक्रियाओं के प्रभाव के साथ तुलना की, और इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि योग के प्रभाव अन्य व्यायामों की अपेक्षा अनेक गुणा अधिक, उत्तम गुणवत्ता वाले और व्यापक रहे। शास्त्रों में तो स्पष्ट उद्घोष किया है – नास्ति योगसमं बलम्। प्राचीन और गुरुपरम्परा से मिलने वाली इस योग-विद्या का प्रचलन धीरे-धीरे इसके जिज्ञासु और साधकों की उत्साहहीनता के कारण कम होने लगा। समय के साथ-साथ मनुष्यों की शारीरिक और नैतिक शक्ति क्षीण होने लगी। परिणाम स्वरूप धीरे-धीरे यह विद्या लुप्त होती गई । इस विद्या के जानकारों की यह भी मान्यता रही कि विद्या अपात्र व्यक्ति के पास न पहुँच  जाए तथा उसका दुरुपयोग न हो, इस कारण भी हमारे ऋषियों ने इस विद्या को वेद मंत्रों में संकेतों के माध्यम से सुरक्षित रखा। यह विद्या अत्यंत गोपनीय है और अनेक प्रकार से मानव कल्याण करने वाली है।

प्रायः आसन और प्राणायाम को ही योग समझ लिया जाता है परंतु योग के आठ अंग है – यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान, और समाधि। आसन तो योग का केवल मात्र एक ही अंग है। आसन के अन्तर्गत स्वास्थ्य की दृष्टि से अत्यंत लाभकारी क्रियायें आती हैं, अतः आसन बहुत लोकप्रिय हुए। प्राणायाम भी अत्यंत ही महत्वपूर्ण और लाभकारी क्रिया है, जिसका उपदेश योग ग्रंथों में बहुत विस्तार से है। प्राणों की शक्ति को सभी जानते हैं। जब तक शरीर में प्राण हैं तभी तक व्यक्ति जीवित रहता है। हमारे ऋषियों ने बहुत सावधानी से प्राण की गतिविधियों को देखा और मनन किया। अतः प्राण-साधना को जानना परमावश्यक है।

ऋषियों ने शरीर में पंचप्राणों, उनके कार्यों और स्थानों का भी अध्ययन किया। उन्होंने बताया कि शरीर में पाँच प्राण और पाँच उपप्राण होते हैं। प्राण, अपान, उदान, व्यान और समान – यह पांच प्राण हैं तथा नाग, कूर्म, कृकर, देवदत्त, और धनंजय उप प्राण हैं।  इन मुख्य पांच प्राणों में भी प्राण मुख्य है। इसका स्थान हृदय में बताया है। अपान वायु का स्थान गुदा में, समान वायु का नाभि में, उदान का कण्ठ और उसके ऊपरी भाग में स्थान है। व्यान वायु सम्पूर्ण शरीर में व्याप्त रहती है।

हृदि प्राणो स्थितो नित्यमपानो गुदमण्डले।

समानो नाभिदेशे तु, उदानो कंठमध्यगः।।

व्यानो व्याप्य शरीरे तु , प्रधानाः पंचवायवः।

(घेरण्ड संहिता ५.५९-६०)

शरीर में इन प्राणों और  उपप्राणों का कार्य भी अलग अलग है। प्राण शरीर में शक्ति प्रदान करता है, अपान वायु  शरीर से अशुद्धि निकाल कर बाहर कर देता है। समान वायु खाए हुए भोजन को पचाता है । उदान वायु कंठ के ऊपर के भाग में संचार करता है। व्यान वायु पूरे शरीर में विचरण करता है। नासिका द्वारा ली जाने वाली वायु जीवन दायिनी होती है। यह शरीर के अंदर जाकर आन्तरिक अशुद्धियों, रोगाणुओं और कफ, वात, पित्त (त्रिदोष) के मल दूर करती हुई उनको प्रश्वास के साथ बाहर फेंक देती है। जब तक शरीर में प्राण वायु समुचित रूप से गतिशील रहती है, तभी तक शरीर स्वस्थ रहता है। यही कारण है कि केवल प्राण का ही विस्तार किया जाता है, अर्थात् प्राणों का ही आयाम किया जाता है, अपानवायु आदि अन्य वायुओं का नहीं। विधिपूर्वक किया गया प्राणायाम अनेक रोगों को दूर करता है।

(Source of Image : https://arlivenews.com/in-udaipur-final-rehearsal-of-yog-one-day-before-of-international-yog-day/ )

दह्यन्ते ध्मायमानानां धातूनां हि यथा मलाः।

तथेन्द्रियाणां दह्यन्ते दोषाः प्राणस्य निग्रहात्।।

(मनुस्मृति १.७१-७२)

अर्थात् जिस प्रकार लोहार की धौंकनी से तेजी से जलती हुई आग में सोना आदि धातुओं के मल जल जाते हैं, उसी प्रकार प्राणों के नियन्त्रण से सभी इन्द्रियों के दोष, मल, और अशुद्धियाँ जल जाती हैं। योग साहित्य और एलोपैथिक डाक्टर भी प्राणायाम की रोगनिवारक शक्ति को स्वीकार करते हैं। अस्थमा के रोगियों के एक समूह पर प्राणायाम के प्रभाव का अध्ययन किया गया। प्राणायाम के पहले उनके कुछ रक्त तथा श्वास संबंधी परीक्षण किए गए और प्राणायाम के कोर्स की अवधि के बाद पुनः रक्त और श्वास के वही परीक्षण  दोबारा किये गये। साधकों के परीक्षणों में सकारात्मक परिवर्तन मिले। साधकों का हीमोग्लोबिन, रेड ब्लड सेल्स तथा लिंफोसाइट काउंट्स बढ़े हुए मिले जबकि व्हाइट ब्लड सेल्स, पॉलीमर्स,  इस्नोफिल्स और मोनोसाइट्स कम हो गए। यह रक्त के बदलाव अस्थमा की तीव्रता कम होने के सूचक हैं। सबसे महत्वपूर्ण और आश्चर्यजनक उपलब्धि तो यह रही कि उपचार की अवधि में रोगियों को अस्थमा का दौरा ही नहीं पड़ा। उनके फेफड़ों की शक्ति बढ़ गई जिससे वे अधिक वायु को श्वास के द्वारा शरीर में खींच सके और अधिक समय तक उस वायु को भीतर रोकने में समर्थ भी हुए। इससे उनका श्वास का एंप्लीट्यूड और होल्डिंग टाइम बढ़ गया। यह सभी परीक्षण डॉ के. एन. उडुप ने किए और प्राणायाम के लाभों को स्वीकार किया {“Stress and it’s management by yoga”, Dr. K. N. Udupa, Delhi, 1985 and K.N.Udupa, R.H. Singh, R.M. Settiwar, and M.B.Singh. “Physiological and biochemical changes, following the practice of some yogic and non-yogic exercises,” Journal of Research in Indian medicine, 10(2)}। प्राणायाम की इस रोग निवारक शक्ति  का संकेत हमें ऋग्वेद के दशम मंडल के १३७ वें सूक्त के प्रथम और द्वितीय मंत्र में मिलते हैं, जहां प्राण को विश्वभेषज और बल दायक बताते हुए शरीर के रोगों और मलों को दूर करने वाला कहा है।

प्राण साधना कैसे करें

प्राणायाम के अनेक प्रकार हैं और अनेक विधियों से किया जाता है। रोगी की शारीरिक शक्ति और रोग की अवस्था को देख कर उसके अनुसार ही प्राणायाम का चुनाव करना चाहिए। किसी अनुभवी, स्वयं साधना करने वाले, कुशल और सज्जन स्वभाव वाले योग शिक्षक की देखरेख में उचित प्राणायाम का ज्ञान प्राप्त कर अभ्यास करना चाहिए जो पालन करने योग्य नियम भी बताएगा और सावधानियों की शिक्षा भी देगा। कुछ प्राणायाम विशेष रोगों में ही लाभकारी होते हैं जैसे शीतली और सीत्कारी प्राणायाम, जो उच्च रक्तचाप,  एसिडिटी तथा गर्मी से उत्पन्न रोगों में लाभदायक होता है परंतु निम्न रक्तचाप तथा कफ के रोगियों के लिए यह प्राणायाम हानिकारक है। इसी प्रकार श्वास को भीतर रोककर कुम्भक सहित किए जाने वाले प्राणायाम हृदय और स्ट्रोक के रोगियों के लिए हानिकारक होते हैं। सामान्य रूप से स्वस्थ व्यक्ति को नाड़ी शोधन/ अनुलोम विलोम प्राणायाम करना स्वास्थ्यवर्धक और अनुकूल रहता है। श्वास को भीतर रोके बिना बाईं नासिका से श्वास लेकर दाहिनी नासिका से निकालना और फिर दाहिनी नासिका से लेकर बाईं नासिका से निकालना नाड़ी शोधन प्राणायाम है। इसका कारण है कि बाईं नासिका में चंद्र स्वर चलता है जो ठंडा होता है और यही जीवनदायक है। दाहिनी नासिका से निकलने वाली वायु गर्म होती है, क्योंकि यह शरीर के सभी दोषों को लेकर बाहर निकलती है। अतः शरीर में पहले स्वास्थ्यवर्धक प्राणवायु को  श्वास से भीतर खींचना चाहिए और दाहिनी नासिका से सभी मलों को बाहर फेंकना चाहिए। श्वास लेते समय यही विचार करना चाहिए कि  प्रकृति से शक्तिदायक वायु के साथ मेरे शरीर में शक्ति प्रवेश कर रही है। बाहर श्वास फेंकते हुए यह विचार करें की मेरे शरीर के सभी रोगों के कीटाणु और शरीर के सभी मल श्वास के साथ बाहर निकल रहे हैं। इस प्रकार प्राणायाम द्वारा सकरात्मक विचारधारा से शरीर के साथ-साथ मानसिक बल में भी वृद्धि होती है।

प्राणायाम का मूल तत्व है गहरा श्वास लेना, इतना गहरा की नाभि तक हिलने लगे। इससे श्वास से भीतर ली गई वायु की गुदा स्थित अपान वायु से टक्कर होती है। तब अपान वायु प्राण को नीचे अपनी ओर खींचती है, और प्राणवायु अपान वायु को ऊपर अपनी ओर खींचती है। प्राण अपान का यह घर्षण से नाभि स्थित जठराग्नि तेज होती है और रोगों के कारणभूत कफ, वात, और पित्त के कुपित अंश को जला कर शरीर को रोग मुक्त कर देती है।

प्राणायाम के नियम

प्राणायाम के लिए कुछ पालनीय नियम हैं , जिनका पालन करने से प्राणायाम का पूर्ण लाभ मिलता है।

1. प्राणायाम के ३ घंटे पहले कुछ ना खाया हो और पानी आधा घंटा पहले पी सकते हैं।

2. प्राणायाम के पश्चात् स्नान लगभग १ घंटे के बाद करें। पानी आधे घंटे बाद पी सकते हैं परंतु भोजन एक से डेढ़ घंटे के बाद ही करें।

3. प्राणायाम का साधक उचित समय पर सोए और उचित समय पर जागे। वह स्वास्थ्यवर्धक और सीमित मात्रा में ऋतु अनुकूल भोजन करें। तभी प्राणायाम का पूरा लाभ मिलता है।

प्राणसाधना के लाभ

प्राणायाम से अद्भुत लाभ होते हैं- मन की एकाग्रता बढ़ती है (जिससे व्यक्ति की कार्यक्षमता बहुत बढ़ जाती है, एकाग्र मन से किया हुआ कार्य भी श्रेष्ठ गुणवत्ता वाला होता है),  मन का तनाव भी बहुत कम हो जाता है (परिणाम स्वरूप तनाव से उत्पन्न होने वाले मनोदैहिक रोगों में बहुत लाभ होता है), मन में शान्ति रहती है, काम, क्रोध, ईर्ष्या आदि के नकारात्मक भाव धीरे धीरे कम होते जाते हैं (काम, क्रोध, लोभ आदि ही अनेक सामाजिक, आर्थिक, यौन अपराधों के मूल कारण होते हैं), भावनाएँ शुद्ध होती हैं जिससे व्यक्ति समाज में शान्ति और व्यवस्था बनाए रखने में सार्थक भूमिका निभाता है। प्राणायाम से इन लौकिक लाभों के अतिरिक्त आध्यात्मिक दृष्टि से भी  बहुत लाभ होता है। शरीर की अशुद्धियां नष्ट हो जाने पर प्रकाश स्वरूप आत्मा के ऊपर से अज्ञान अंधकार का आवरण हट जाता है। तब साधक को आत्मसाक्षात्कार होता है। यह आध्यात्मिक लाभ मानव जीवन का अंतिम लक्ष्य माना गया है।

ततः क्षीयते प्रकाशावरणम्।

 (पतंजलि योगसूत्र २.५२)

यदि इस जीवन में आत्म स्वरूप को पहचान लिया तो बहुत उत्तम है, जीवन सफल है, और यदि न जान पाए तो बहुत बड़ी हानि है क्योंकि मानव जीवन का यही प्रथम लक्ष्य है कि वह आत्म-दर्शन का प्रयास करता रहे।

इह चेदवेदीदथ सत्यमस्ति, न चेदिहावेदीन्महती विनष्टिः।

(केनोपनिषद् २.५)

अयन्तु परमो धर्मः यद्योगेनात्मदर्शनम्।

(याज्ञवल्क्य स्मृति ८)

आशा है कि इस योग दिवस योग के इन सार्वभौमिक सकारात्मक परिणामों को स्वीकार करते हुए तथा प्रेरित होकर प्रबुद्ध जिज्ञासु प्राणायाम साधना में रुचि लेंगे।

डा. राजकुमारी त्रिखा, पूर्व अध्यापिका, संस्कृत, मैत्रेयी कालेज, दिल्ली विश्वविद्यालय

वैशाखी पर्व पर जलियाँवाला बाग की नृशंसता की शताब्दी (एक पुस्तकीय पुनर्वाचन)

Dr. Aparna (Dhir) Khandelwal and Dr. Rishiraj Pathak

उत्सव-प्रधान भारत देश में अन्य पर्वों के समान वैशाखी पर्व का भी विशेष महत्त्व है| जैसा कि इसके नाम से स्पष्ट है कि यह पर्व वैशाख मास से सम्बद्ध है| ज्योतिषशास्त्र के अनुसार जिस मास की पूर्णिमा को विशाखा नक्षत्र पड़े, वह मास वैशाख मास कहलाता है| निम्नलिखित वचन इसके प्रमाण हैं –

’कार्त्तिक्यादिषु संयोगे कृत्तिकापि द्वयं द्वयम्| अन्त्योपान्त्यौ पञ्चमश्च त्रिधा मासत्रयं स्मृतम’||

                                                                                  (सूर्यसिद्धान्त, मानाध्याय, १४. १६)

’यस्मिन्मासे पौर्णमासी…तन्नक्षत्राह्वयो मास: पौर्णमासी तथाह्वया’।

(नारद-संहिता ३.८४)

ध्यान देने योग्य है कि मासों के नाम नक्षत्र तथा चन्द्रमा की युति के आधार पर रखे गये हैं और सूर्य के संक्रमण से मास का काल निर्धारित किया जाता है।

सूर्यस्य राशिगतिर्यत्र परिमीयते स सौर:।

सूर्य जितने समय तक एक राशि में रहता है, उसे सौर मास कहते हैं।

                                                        (कालमाधव, द्वितीय प्रकरण, पृ. ४५)

वर्त्तमान प्रचलन में वैशाखी पर्व १३ अथवा १४ अप्रैल को मनाया जाता है| इसका कारण है कि वैशाखी पर्व सौर मान पर आधारित है| जब भगवान् सूर्य मेष राशि में संक्रमण करते हैं तब मेषसंक्रान्ति होती है| सौर मान के अनुसार तभी नव वर्ष होता है| सौर मान सूर्य के अनुसार निर्धारित होता है| प्रति अंग्रेजी मास की १४ तारीख को सूर्य नयी राशि में प्रवेश करते हैं| इस प्रकार १३ अथवा १४ अप्रैल को सूर्य मेष राशि में प्रवेश करते हैं|

उल्लेखनीय है कि वैशाख मास को ’माधव’ नाम से भी जाना जाता है। इसका प्रमाण स्वयं यजुर्वेदीय संहिता ग्रन्थ हैं|

’…मधवे त्वा। उपयामगृहीतोSसि। माधवाय उपयामगृहीतोSसि। तपसे त्वा….’।

(कपिष्ठल-कठ-संहिता ३.५, काठक-संहिता ४.७.२९)

’मधुश्च  माधवश्च वासन्तिकावृतू’।

(कपिष्ठल-कठ-संहिता २६.९, काठक-संहिता १७.१०.२५-२८, मैत्रायणी-संहिता २.८.१२, तैत्तिरीय-संहिता ४.४.११, )

’मधवे स्वाहा माधवाय स्वाहा….’।

(वाजसनेयि-संहिता २२.३१, मैत्रायणी-संहिता ३.१२.१३ )

स्कन्दपुराण में ’माधव मास’ को सर्वोत्कृष्ट मास के रूप में वर्णित करते हुए उसका महत्त्व बताया गया है –

“न माधवसमो मासो….”

(स्कन्दपुराण वै. वै. मा. २.१)

माधव मास जैसा कोई अन्य मास नहीं है।

पुराणों में आए सूतजी और नारदजी के संवाद से वैशाख मास के महात्म्य को ज्ञात किया जा सकता है-  विद्या में वेद विद्या, मंत्रों में प्रणव, वृक्षों में कल्पवृक्ष, गायों में कामधेनु, नागों में शेष, पक्षियों में गरुड़, देवों में विष्णु, वर्णों में ब्राह्मण, प्रिय वस्तुओं में प्राण, मित्रों में भार्या, नदियों में गंगा, तेजस्वियों में सूर्य, शस्त्रों में चक्र, धातुओं में स्वर्ण, वैष्णव में शिव, रत्नों में कौस्तुभमणि के समान है। भगवान् की भक्ति के लिए यह सबसे उत्तम मास है। इसमें आक, पीपल और वट वृक्षों की पूजा करते हैं। अन्न और जल के दान का विशेष महत्त्व है, प्याऊ आदि लगवाने से व्यक्ति अपने कुल का उद्धार करता है। इस मास में खड़ाऊँ, पंखा, छतरी आदि का दान दिया जाता है। वैशाख मास में केवल स्नान मात्र से मनुष्य सब पापों से मुक्त होकर बैकुंठ को जाता है।

पंजाब में वैशाखी पर्व की विशेष महत्ता है| इस दिन १६९९ ई. में सिक्खों के दसवें गुरु श्रीगुरु गोविन्द सिंह जी ने खालसा पन्थ की स्थापना की थी| इस दिन पंजाब में तरन-तारन सरोवर में स्नान का विशेष महत्त्व है| ऐसी मान्यता है कि इस पवित्र सरोवर में स्नान करने से कुष्ठ जैसे असाध्य रोग भी दूर हो जाते हैं|

वैशाखी पर्व के इस पुण्यवर्धक अवसर पर अतीत की कुछ दुर्दान्त नृशंस घटनाओं का स्मरण हो जाना भी स्वाभाविक है| परतन्त्र भारत में १९१९ ई. की वैशाखी भारतीय इतिहास में अति अमानवीय घटना के रूप में प्रसिद्ध है| उल्लेखनीय है कि १३ अप्रैल १९१९ ई. को अमृतसर स्थित जलियाँवाला बाग में वैशाखी पर्व के अवसर पर भारतीय जन समूह अंग्रेजों द्वारा प्रवर्तित रोलेट एक्ट के विरोध प्रदर्शन में एकत्रित हो गया| जब यह बात जनरल डायर को ज्ञात हुई तो उसने अचानक वहाँ आकर अपने सैनिकों के साथ मिलकर निरपराध और निःशस्त्र भारतीयों पर गोलियां चलाईं| वहाँ १५ मिनट में १६५० गोलियाँ चलीं| जलियाँवाला बाग में आने और जाने का एक ही दरवाजा था, वहाँ डायर ने तोपें लगवा दीं और हमारे निःशस्त्र भारतीय मृत्यु यज्ञ की आहुति बनते रहे| अनेक लोग अपनी प्राणरक्षा के लिए कुँए में कूद गए| आज इस कुँए को शहीदी कुँए के नाम से जाना जाता है| मृत्यु के इस क्रूर नृत्य के साक्षी श्री ऊधमसिंह जी भगवान् की कृपा से सुरक्षित बच गए| श्री ऊधमसिंह जी ने प्रतिज्ञा की कि मैं निरपराध भारतीयों की हत्या का प्रतिशोध लेने के लिए डायर का वध करूंगा| श्री ऊधमसिंह जी ने अपनी प्रतिज्ञा पूर्ण करने के लिए बहुत संघर्ष किया| उन्होंने धन प्राप्ति के लिए बढ़ई बनकर लकड़ी का काम किया और भगत सिंह जी से प्रेरित होकर बंदूक खरीदने के लिए विदेश चले गए, किन्तु लाइसेंस न होने के कारण उन्हें पाँच वर्ष की जेल हो गयी| जेल से बाहर आकर उन्होंने पुनः तैयारी की और लन्दन चले गए| वहाँ जाकर उन्होंने एक होटल में काम किया और बंदूक खरीदने के लिए धन जुटाकर बंदूक खरीद ली| श्री ऊधमसिंह जी अपनी वीरता और चतुरता का परिचय देते हुए बन्दूक को एक पुस्तक में गोपनीय ढंग से रखकर किंग्स्टन गए| किंग्स्टन में डायर का सम्मान समारोह चल रहा था, जहाँ श्री ऊधमसिंह जी ने उसके सम्मान समारोह के उपरांत सबके सामने गोलियाँ चलाकर डायर का वध कर दिया और जलियाँवाला बाग हत्याकांड का उल्लेख करते हुए अपनी प्रतिज्ञा की सार्थकता सिद्ध की| बाद में श्री ऊधमसिंह जी को फांसी की सजा हुई और वे सदा के लिए अमर हो गए|

आधुनिक संस्कृत काव्य परम्परा में इसी घटना को आधार बनाकर डा. ऋषिराज पाठक ने श्रीमदूधमसिंहचरितम् नामक ऐतिहासिक खण्डकाव्य की रचना की है, जिसे हिन्दी, अंग्रेजी, और पंजाबी भाषाओं में अनुवाद के साथ जलियाँवाला बाग घटना के शताब्दी वर्ष पूरे होने के अवसर पर प्रकाशित किया जा रहा है| प्रसादगुणोपेत यह काव्य सरल तथा प्रवाहमयी भाषा में लिखा गया है| इस काव्य में जलियाँवाला बाग की वैशाखी की घटना का जीवन्त वर्णन है| अंग्रेजों के रोलेट एक्ट के विरोध में भारतीयों द्वारा विरोधप्रदर्शन, डायर द्वारा नृशंस हत्याएँ, श्रीऊधमसिंह जी की प्रतिज्ञा, उनका संघर्ष और डायर का वध, काव्य में इन सभी घटनाओं का सजीव वर्णन है| इस काव्य की कुछ पंक्तियाँ इस प्रकार हैं-

डायर द्वारा नृशंस हत्याएँ –

यदाङ्ग्लो डायरो दुष्टो विद्रोहं ज्ञातवानिमम्|

तदादिशद् विघाताय निःशस्त्राणां सभामहे||

डायरादेशतस्तत्र सेनया प्रहृतं ततः|

चक्ररूपभुशुण्डीभिरग्निगोलकवृष्टिभिः||

(श्रीमदूधमसिंहचरितम् २०-२१)

And when General Dyer came to know about the protest,

The sadist foreigner ordered for the massacre of the unarmed people.

On Dyer’s order, the army rained ammunition from the machine guns,

On the crowd, hapless and feeble. (20-21)

जब दुष्ट डायर को इस विद्रोह के विषय में ज्ञात हुआ तो उसने सभा उत्सव में निःशस्त्र भारतीयों के विनाश के लिए आदेश दे दिया| तदनन्तर वहाँ डायर के आदेश से चक्र के समान (घूमती हुई) आग की गोलियों की वृष्टि करने वाली बन्दूकों द्वारा सेना ने निरपराध भारतीयों पर प्रहार किया| (२०-२१)

ਪਤਾ ਲੱਗਾ ਅੰਗ੍ਰੇਜ਼ ਡਾਇਰ ਨੂੰ ਇਸ ਵਿਦ੍ਰੋਹ ਦਾ

ਦਿੱਤਾ ਹੁਕਮ ਨਿਹੱਥਿਆਂ ਦੇ ਵਿਨਾਸ਼ ਦਾ

ਉਦੋਂ ਚਲਾਈਆਂ ਗੋਲੀਆਂ

ਡਾਇਰ ਦੀ ਸਰਕਾਰ

ਮਾਰਿਆ ਨਿਹੱਥਿਆਂ ਭਾਰਤੀਆਂ

ਨੂੰ ਸੰਗੀਨਾ ਨਾਲ

ਡਾਢੇ ਕਹਿਰਾਂ ਨਾਲ॥20-21॥

(Punjabi Translation by – Dr. Gurdeep Kaur)

श्रीऊधम सिंह जी की प्रतिज्ञा –

नरसंहारसम्भारं दृष्ट्वा भीष्मप्रतिज्ञया|

ऊधमसिंहवीरोऽसौ संकल्पं कृतवान् दृढम्||

डायरं मारयिष्यामि नूनमेष दृढव्रतः|

एतदेवास्ति लक्ष्यं मे चिन्तयामास तद्गतः||

(श्रीमदूधमसिंहचरितम् २८-२९)

After seeing the massacre,

Udham Singh took a brilliant and firm vow,

“I will kill Dyer“, he swore,

And started contemplating about how to achieve it. (28-29)

उन वीर ऊधमसिंह ने नरसंहार के समूह को देखकर भीष्मप्रतिज्ञा पूर्वक ”मैं डायर का वध करूँगा”, यह मेरा दृढ़ व्रत है और यही मेरा लक्ष्य है, यह दृढ़ संकल्प किया और उसी प्रतिज्ञा के विषय में चिन्तन करना प्रारम्भ कर दिया| (२८-२९)

ਦੇਖ ਇਹ ਨਰਸਿੰਘਾਰ

ਊਧਮ ਸਿੰਘ ਨੂੰ ਆਇਆ ਰੌਹ

“ਮੈਂ ਡਾਇਰ ਨੂੰ ਮਾਰਨਾ,

ਇਹ ਮੇਰਾ ਲਕਸ਼ ਇਹੀ ਮੇਰੀ ਸੌਂਹ”॥

ਰੁੱਝਿਆ ਫਿਰ ਉਹ ਸੋਚਾਂ ਦੇ

ਕਿਵੇਂ ਵਿਉਂਤਣੀ ਹੈ ਸੌਂਹ॥28-29॥

आज हम भारत की गौरव पूर्ण परम्परा में वैशाखी पर्व के उल्लास का विस्तार करते हुए तथा अपने निरपराध भारतीय पूर्वजों के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए वीर श्री ऊधमसिंह जी को सादर स्मरण करते हैं| साथ ही हमारा मानना है कि किसी प्रकार के संबंध बनाने के लिए अथवा लोकप्रियता के लिए आज जिस प्रकार सोशल मीडिया का प्रयोग किया जाता है, उसी प्रकार हो सकता है उस दिन वैशाखी पर्व पर एकत्रित हुए लोगो की सामाजिक सभा का राजनीतिकरण करने के लिए इस्तेमाल किया गया हो। अतः सामाजिक और धार्मिक समारोह का इस्तेमाल राजनीति के लिए करना अत्यंत खतरनाक सिद्ध हो सकता है और कलह का कारण बन सकता है।

[Author’s clarification – The person who opened fire in Jallianwala Bagh was Colonel Reginald Edward Harry Dyer who died in 1927 due to cerebral haemorrhage and arteriosclerosis. It was Sir Michael Francis O’ Dyer who was assassinated by Udham Singh in 1940 in London. O’ Dyer happened to be the Lieutenant Governor of Punjab at the time of the Jallianwala Bagh massacre and a supporter of the heinous crime. This tiny nugget of information has been excluded from the poem in order to maintain the tempo and brevity of it. However, it has been mentioned here because it is an important fact of modern day History.]

Dr. Aparna (Dhir) Khandelwal, Assistant Professor, School of Indic Studies, INADS, Dartmouth &

Dr. Rishiraj Pathak, Assistant Professor, Sanskrit, Shyama Prasad Mukherjee College, University of Delhi, Delhi