Homa Organic Farming for Sustainability and Climate Change Adaptation (Part-II)

-Mr. Anand Gaikwad

(continued from previous article)

For environmental balance and rain induction/cloud formation, the techniques mentioned in ancient Vedic sciences i.e. performance of yajñas are of great importance.

Components of Technology / Methodology

Fully integrated organic farming practices, i.e., components of livestock, biogas slurry, composting of biomass and animal manure, practicing biodiversity, intercropping, rotation of crops etc.

Creation of Resonance Point – Installation of Agnihotra/Trambakam Hut for receiving and broadcasting subtle energies from sun and moon cycles.

Bovine is Divine –  Full and complete integration of cow family with the farm.

Performance of AgnihotraIn Agnihotra the substances used are cow dung cakes, cow ghee, rice, dry–wooden sticks of certain trees, medicinal herbs etc that helps in cleansing of Biosphere. The agronomic practices of performing Agnihotra/Medicinal Homas as fumigation techniques are essential components of Vedic Agriculture or “Homa Farming”.

Biogas Slurry – Enrichment and enhancement of Biogas slurry with effective micro–nutrients/Homa ash/Panchgavya for soil health and Rhizosphere Management.

Panchgavya/Kunapajala – An elixir prepared by using five products of cow i.e. cowdung, cow urine, milk, curd and ghee plus some other ingredients. This works as a nourishing elixir for soil and useful in Rhizosphere and Biosphere Management of the farm.

Cosmic influence of Planets on Plant life –  Rudolf Steiner’s philosophy is that plants grow not only through the fertility of the soil but also with support from cosmos – the rhythms of the sun, moon, planets and wider constellations of the Zodiac. According to Biodynamic principles, the four parts of the plants i.e. root, stem, leaves, flower and fruits correspond to the four classic elements of nature. The Sap inside the plants flow upward or downward according to ascending or descending moon cycle. According to Vedic Sciences, all objects, substances and life patterns in the universe are made from Panchmahabhutas. In “Vrikshyaayurveda of Parashara (By N. N. Sarkar and Roma Sarkar) it is stated that Plants have consciousness and feelings. As a part of plant physiology the text records a concept relating to the transport system inside the plant. The vascular circulating system consists of Syandani and Sira. Of these, Syandani performs the function of transporting elementary fluid (Panchbhautik Rasa) from earth (soil) with the help of roots. Through Sira the fluid circulates both in the inward and outward directions. The rasa is to be conceived (according to Sankhya Darshana of ancient philosophy) right from the basic invisible matter. This rasa nourishes the plant organs with all the derivations of five “Panchmahabhautik elements” viz. “Khsiti (earth)”, “Aap (water)”, “Tej (Solar/Agni)”, “Vayu (air)” and “Aakash (space)”.

Just as Biodynamic farming, Homa organic farming is based on yajñas and Life Bio-energy forces, whose main source is the energy from the sun. This Cosmic energy we call it as “Prana-tatva” or “Pranic energy”. In following the principle य॒ज्ञेन॑ कल्पतां प्रा॒णो य॒ज्ञेन॑ कल्पताम्-अपा॒नो य॒ज्ञेन॑ कल्पतां॒ व्या॒नो य॒ज्ञेन॑ कल्पतां॒ चक्षु॑र्-य॒ज्ञेन॑ कल्पता॒ग्॒ श्रोत्रं॑ य॒ज्ञेन॑ कल्पतां॒ मनो॑ य॒ज्ञेन॑ कल्पतां॒ वाग्-य॒ज्ञेन॑ कल्पताम्-आ॒त्मा य॒ज्ञेन॑ कल्पतां य॒ज्ञो य॒ज्ञेन॑ कल्पताम् ॥ as mentioned in Rudram Chamakam (10).

The most important thing about this agricultural methodology which is based on Vedic Sciences is that it recognizes the forces of “Aakash (space)” the fifth element i.e. the subtle energies of both light and sound (Nad-brahma) to enhance the Cosmic influence of planets on plants. Aakash is the mother of all other elements and “Nad” or “Sound” is its most omnipotent and subtlest force, which has capacity to reach Cosmos of Twenty-seven Constellations. Shri Vasant Paranjape in his book “Homa Therapy – our Last Chance” says “when these specific mantras are uttered at the specific times of sunrise/sunset “RESONANCE” takes place in the pyramid.  The most powerful effect is with the word “SWAHA”. It is the Resonance which heals.” This is how plant plagues and epidemics go away. Resonance plays vital part in natural phenomena.  He further says “when Mantras are done in conjunction with Homa fires the vibrations from mantras become locked up in the ash and therefore ash becomes more powerful under this method to heal atmosphere and create conducive Biosphere for healthy growth of plants and animal life.”

Nakshatra-wise rain-forecast and performance of Homas according to astronomical positions of constellations for attracting influence of cosmic forces on plants / animals and for rain-induction is the area of research that leads to preparation of location based specific agro-climatic calendar. This will be another dimension of Homa farming. Additionally, it is also proposed to study the effect of ashes from Samidhas of Yajñyiya Vrikshas used during Havans. The relationship of Agnihotra/Yajñas, environment and Agriculture are explained in the following diagram:diagram

Thus, these practices based on Vedic Sciences and recommended in texts like “Vruksha Ayurveda of Parashar, Kashyapiya Krishi Sukti, Brihit Samhita by Varah Mihir” are helpful in Biosphere Management for healthy plant / animal life and human life.

-Mr. Anand Gaikwad, Krishi Bhushan Sendriya  Sheti  M. S. & Retd. Executive Director/Company Secretary

 

Advertisements

Homa Organic Farming for Sustainability and Climate Change Adaptation (Part-I)

Brief Resume-page-001

– Sh. Anand Gaikwad

The methodology of organic farming, “Chaitanya Krishi” based on Vedic Sciences (Homa organic farming) was adapted and got further evolved by the farm situated on the bank of river Barvi and situated in the village known as Dahagaon, Tal. Kalyan, Dist. Thane, Maharashtra State. Organic farming has started on this farm since 1998. In July 2010, a Resonance Point for performance of Agnihotra was established and since then the methodology of Homa organic farming i.e. “Chaitanya Krishi” based on Vedic agricultural sciences/Vedic Parampara or Indian Traditional Agricultural Heritage has been undertaken for scientific development. In August 2014, the Maharashtra State Government has recognized the owner (Shri Anand Gaikwad) of this farm with a prestigious award “Krishi Bhushan Sendriya Sheti-2013” for Organic Farming.

After establishment of Resonance Point, for performing Agnihotra and other Yajnas, in July 2010, the development of this methodology on a scientific basis have undertaken on this farm. A fusion of Biodynamic farming practices (like use of BD 500, BD 501, preparation of BD compost, CPP etc) and Homa farming can bring the best from both to deal with the problems of pollution and for improvement in the soil health and vitality of food. In agriculture the two spheres which need judicious management are, “Biosphere” and “Rhizosphere” and the methodology of this working, which has been evolved and is getting further developed at this farm, seems to offer sound agronomic practices for restoration of balance in natural resources, health of the soil and for sustainable agriculture.

The salient features of this methodology are given in this technical note.

Fundamental Principles :

  • Holistic approach for production of food.
  • Holistic Resource Management for sustainable agriculture.
  • Rhizosphere and Biosphere Management with organic farming practices for improvement in soil health, healthy plant life, animal life and human life.

Panchsheel for development of organic farming :

Acharya Vinoba Bhave’s definition of Agriculture is as under:

शेती एक सांस्कृतिक नवनिर्माण करणारी सृजनशील जीवनशैली आहे. आनंददायी कल्याणकारी संस्कृती आहे. (केवळ) धंदा नाही धर्म आहे.

Agriculture is the basis of creating permanent social order and civilization. Ecological duty of a human being is to return to nature or basically to soil that which belongs to it i.e. – biomass to earth and fruit and produce to the man. This is either through cattle to complete the nature’s cycle or by making compost and returning it back to the soil to create humus.

सुस्था भवन्तु कृषकाः धनधान्यसमन्विताःकृषिपराशर

susthā bhavantu kṛṣakāḥ dhanadhānyasamanvitāḥ – kṛṣiparāśara

“Let the farmer be happy, healthy and wealthy”

Holistic approach for production of wholesome nutrient food – Healthy Soil – Healthy Food – Healthy Life “So long as one feeds on food from unhealthy soil, the spirit will lack the stamina to free itself from the prison of body” – Rudolf Steiner, Father of Bio-dynamic Farming.

कृषिः यज्ञेन कल्पताम्। प्राणो यज्ञेन कल्पताम्। यज्ञो यज्ञेन कल्पताम्।

kṛṣi yajñena kalpatām | prāo yajñena kalpatām | yajño yajñena kalpatām |

Dev-yajñas and Bhut-yajñas should be performed by landholder for agriculture and environment (Kashyapiya Krishi Sukti).

The gospel truth about creating and keeping ecological balance through Yajña is given in Bhagvadgīta (3.14) which states as under:

अन्नाद् भवन्ति भूतानि पर्जन्यादन्नसम्भवः।

यज्ञात् भवन्ति पर्जन्यः यज्ञः कर्मसमुद्भवः॥

annād bhavanti bhūtāni parjanyādannasambhava |

yajñāt bhavanti parjanya yajña karmasamudbhava ||

Simply stated in proper order, it would mean:

यज्ञात् भवन्ति पर्जन्यः yajñāt bhavanti parjanya (due to yajña it rains)

पर्जन्यादन्नसम्भवः parjanyādannasambhava (rains produce food)

अन्नाद् भवन्ति annād bhavanti bhūtāni (all living beings survive on food)

agnihotra

(Source of Image: https://agnihotra.pl/en/agnihotra/)

In respect of cloud formation and Rain Induction Techniques mentioned in Śatapatha Brāhmana of Śukla Yajurveda are as follows:

अग्नेर्वै धूमः जायते agnervai dhūma jāyate {Agni/ yajña creates Water Vapours (aerosol nano particles)}

धूमात् अभ्रम् dhūmāt abhram {Water vapours (aerosol nanoparticles ) form clouds}

अभ्रात् वृष्टिः abhrāt vṛṣṭi[Clouds give rains]

“Heal the atmosphere and healed atmosphere heals you”, “Agnihotra is the basic Homa for all Homa fire practices given in the ancient Vedic Sciences of bio-energy, psychotherapy, medicine, agriculture biogenetics, climate engineering and interplanetary communication”  (Shri Vasant Paranjape in, “Homa Therapy our Last Chance”). The positive effects of Agnihotra are an outcome of simultaneous functioning of many subtle scientific principles such as, effect of chanting of specific sounds on the atmosphere and mind, energies emanating from the pyramid-shape, nutritional effect of burning of medicinal ingredients and the effects of bio-rhythms of sun, moon and natural phenomena. It provides the foundation for healthy life: fresh air, clean water, healthy soil, vital organic food and a peaceful atmosphere. It is the need of the hour and a simple solution to our global crisis that anyone can apply – Agnihotra is a simplified Dev-yajña. 

(to be continued…..)

Sh. Anand Gaikwad, Krishi Bhushan Sendriya  Sheti  M. S. & Retd. Executive Director/Company Secretary

Can Spirituality be used to look ‘cool’ in modern times?

PPDr_for_web– Dr. Athavale

What is it to be ‘cool’?

The younger generation goes to great lengths in their desire to be seen as ‘cool’. In an ever-changing world, the context of what it is meant by cool would seem like a moving target. So, what is it to be cool nowadays? In a study* led by a University of Rochester Medical Centre psychologist and published by the Journal of Individual Differences in 2012, the characteristics of ‘coolness’ as per the zeitgeist (spirit of the times) of the new millennium were explored. Whilst there have been many studies associated with understanding what it takes to be considered cool, this research has been the first systematic quantitative investigation of ‘coolness’ from a trait perspective.

It was found that the traits associated with coolness today are markedly different from those that generated the concept of cool. While traditional elements of cool, such as rebelliousness and a hedonistic (self-indulgent) nature were still considered aspects of a person’s ‘cool’ image, they were not as strongly appreciated as socially desirable traits, such as friendly, competent, trendy and attractive. While it is good to see a positive shift in people’s perceptions about what is considered cool, the drivers behind anyone’s personality is complex and largely due to spiritual reasons. Therefore, if a person wants to be viewed as cool, he or she would need to make changes to this complex machinery that forms his or her personality.

‘Being cool’ and personality

The Maharshi Adhyatma Vishwavidyalay (also known as the Maharshi University of Spirituality) has conducted extensive research into understanding an individual’s personality from the spiritual perspective. It has been found that individuals’ traits are mostly decided from previous births. Unknown to most, every human-being has lived many lives on Earth. As per the science of Spirituality, a person keeps taking birth repeatedly (reincarnates) to settle his or her give-and-take account, which is the destiny or karma one is born with. According to how a person has lived in his past lives, and how he has used his wilful action in those past lives, his personality has been shaped. For example, if a person has let his anger go unchecked for lifetimes, then the impression of anger would be stronger than other impressions in the current lifetime. Personality traits such as anger, friendliness, loving nature etc. are stored as impressions in the subconscious mind continuously getting moulded/reinforced by actions and thoughts in any given lifetime. If one were to look at an average person’s past lives and their influence on his personality defects, the following would be the proportion of impact.

Past lives as a contributor to  personality defects Weightage as a percentage
Past 1000 lives 49%
Past 7 lives 49%
Current life 2%
Total 100%

Limitations of today’s education system

Perhaps the main reason why people want to be identified as cool is because of the need to be appreciated and liked by others. It is common knowledge that a person becomes likeable when the personality has more positive than negative traits. While the modern-day education and grooming system acknowledge that such positive traits need to be inculcated in students, it fails in the implementation. This is because most of the time and efforts is spent in educating students about some aspect of the sciences or the arts and not enough on shaping the personality. Also, it is not easy to change an individual’s personality as it means working on the subconscious mind which has been moulded over many lifetimes. Since the subconscious mind is subtle in nature, only subtle techniques can be used to bring about transformation. The most effective subtle technique is the practice of Spirituality.

How to make a personality that appeals to all ?

The woes of society are mainly due to the personality defects in people. Qualities bring about general well-being and have an overall positive effect on a person and his interactions. Conversely, defects bring mental anguish to the person who has them as well as the people he interacts with. Personality defects (PDs) include personality traits such as anger, greed, jealousy, hatred, fear etc. PDs are the main reason why people behave in an improper manner, why they feel stress and why the world is witnessing turmoil in recent times.

Spirit-2-966x543

(Source of Image : http://universoulawakening.com/no-mind-equals-presence/)

The Personality Defect Removal (PDR) process is to eradicate personality defects and help people become happier and more stable. By reducing defects in a person’s mind, a person can better concentrate, persevere and succeed in life’s endeavours along with reducing stress. For those who seek spiritual growth, the PDR process has become the cornerstone of spiritual practice as it acts as an enabler for faster spiritual progress. More importantly, reduction in personality defects minimises the creation of any new negative destiny as it reduces incorrect actions and behaviour.

The PDR process includes the following steps :

  1. Observation: Observing oneself objectively, accepting feedback from others and thereby becoming aware of one’s mistakes through various situations and thoughts.
  2. Analysis: Analysing the root personality defect responsible for the mistake one commits and having clarity of the thought process behind one’s actions and behaviour.
  3. Auto-suggestions: Taking auto-suggestions to train the mind to behave in an ideal manner.

Personality continues to be moulded throughout the eight stages which are – infancy, early childhood, play age, school age, puberty, adolescence, young adulthood, adulthood and maturity. Thus, personality is not a static phenomenon, but a dynamic process which starts from the moment of conception and continues till a person breathes his last. PDR therefore needs to be a way of life and requires lifelong commitment.

Being spiritual is the ultimate in being cool !

The benefits of the PDR process are manifold. Through the PDR process, one proactively changes one’s own personality, value system and behaviour for the better and thus endears oneself to others.By practising Spirituality, one’s personality becomes unconditionally loving towards others and as a result, people are automatically drawn towards the spiritually evolved. By practising Spirituality, it has been observed that even a person’s facial features become more attractive. This is why from a holistic viewpoint, qualitative and sustainable ‘coolness’ for all ages can only be obtained through the practise of Spirituality.

[*https://www.urmc.rochester.edu/news/story/3531/what-does-it-mean-to-be-cool-it-may-not-be-what-you-think.aspx]

– Dr. Athavale, Founder, Maharshi University of Spirituality

गीता में योग की व्याख्या

डॉ. श्यामदेवमिश्र

(continued from previous article)

योग की गीता में व्याख्या से मन में शंका उठती है कि प्रभु ने योग की कई परिभाषाएं दे डालीं जिससे योग के स्वरुप को समझना सामान्य जिज्ञासु के लिए कठिन हो गया है। पहले सिद्धि और असिद्धि की समता को योग कहा; फिर कर्म की कुशलता को योग कहा और आगे दु:ख के संयोग के वियोग को भी योग कहा। किन्तु विचार करने पर यह शंका निर्मूल सिद्ध होती है। प्रभु ने योग के अनेक लक्षण नहीं बताए हैं अपितु एक ही लक्षण को अनेक प्रकार से समझाया है। वास्तव में फल की आशा छोड़कर कर्त्तव्य बुद्धि से कर्म करते रहना ही कर्मयोग है। उस फल की आशा को छोड़ने के अलग-अलग विवरण हैं। फल की आशा छोड़ देने पर सिद्धि और असिद्धि में समानता हो जायेगी। फल की आशा से ही कर्म-सिद्ध होने पर सुख और असिद्ध होने पर दुःख हुआ करता है; फलाशा न रहने पर न सुख होगा न दुःख। तब सिद्धि और असिद्धि में समता हो गयी। यही योग है। इसी प्रकार समानता रखकर कर्म करते जाने से आत्मा पर कर्म का कोई प्रभाव नहीं आता इसलिए यह अर्थात् योग एक बड़ा कौशल या चतुरता भी हुई। यहाँ फलाशा के त्याग को ही ‘कौशल’ शब्द से प्रकट किया है क्योंकि फलाशा-त्याग न करने के स्थिति में फलाशा पूर्ण न होने पर दु:ख हुआ करता है। फलाशा छोड़ देने पर दु:ख का भी प्रसंग नहीं रहेगा। अत: दु:ख संयोग-वियोगरूप लक्षण में भी वही बात प्रकारांतर से कही जाएगी। कहने का तात्पर्य यह है कि एक ही विषय को भिन्न-भिन्न शब्दों से भिन्न-भिन्न अर्थों में समझाया गया है। ‘योग’ शब्द का अर्थ कर्म-योग मान लेने पर सभी लक्षणों की सङ्गति उक्त प्रकार से हो जाती है।

यहाँ एक और प्रश्न उठता है जिसका समाधान अत्यावश्यक है कि फलाशा-त्याग अर्थात् फल की आशा को छोड़ देने से क्या अभिप्राय है?

फल की आशा छोड़ने से तात्पर्य है कि फल के प्रति चिंता ही न करे। इसके दो कारण हैं –  पहला कि फल के बारे में सोचने पर कर्म दुष्प्रभावित या विकृत होगा। दूसरा केवल कर्म के प्रति मनुष्य का अधिकार है यानी केवल कर्म करना ही उसके वश में है; फल के प्रति मनुष्य का अधिकार अर्थात् वश ही नहीं है। यानी फल क्या मिलेगा? कितना मिलेगा? कब मिलेगा? इत्यादि मनुष्य के अधिकार-क्षेत्र के बाहर की बात है। अत: अधिकार-क्षेत्र से बाहर के विषय में चिन्तना करना ही व्यर्थ है। इसीलिये प्रभु ने कहा है – कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन

तब ऐसे में प्रश्न उठता है कि अनधिकार होने के कारण यदि मनुष्य फल की इच्छा का त्याग कर देवे यानी उसके बारे में सोचे ही नहीं तब फिर कर्म करने का प्रयोजन क्या रहा? और बिना प्रयोजन के मनुष्य कर्म ही क्यूँ करे?

इसका समाधान यह है कि प्रयोजन दो प्रकार का समझा जा सकता है – १. क्षणिक या ऐहिक और २. आत्यन्तिक या पारलौकिक । क्षणिक प्रयोजन वह है जिससे प्राप्त सुख की अवधि निश्चित हो; यानी जिसमें फल के उपभोग की समाप्ति अर्थात् वियोग-रूपी दु:ख भी मिलना तय है। क्षणिक प्रयोजन के ही तीन अवान्तर रूप हैं – धर्म, अर्थ और काम ये तीन पुरुषार्थ। किन्तु उत्कृष्टतम कर्म से प्राप्त ब्रह्मलोकरूपी फल के भी भोग के पश्चात् पुन: मनुष्य जीवन-मृत्यु-चक्र में फँसता है। भगवान् ने स्वयं ही कहा है – आब्रह्मभुवनाल्लोका: पुनरावर्तिनोऽर्जुन (गीता )

किन्तु आत्यन्तिक प्रयोजन वह है जिससे प्राप्त सुख का अन्त ही नहीं है अर्थात् जिसमें लेश-मात्र भी दु:ख नहीं है। यही कारण है कि इसे परमप्रयोजन या परमपुरुषार्थ मोक्ष कहा है।

अब यह मनुष्य पर है कि वह किस प्रयोजन का चयन करता है। मनुष्य, जो कि लेश-मात्र भी दुखाकाङ्क्षी नहीं है, वह ‘दुःख हो ही न’ ऐसा प्रबंध क्यों न करे? वही आत्यन्तिक-प्रयोजन अर्थात् मोक्ष है जो केवल पूर्वोक्त योग यानि कर्मयोग  से ही संभव है।

Krishna-arjun-e1489044770798

(Source of image : http://www.navhindu.com/bhagwad-gita-chapter-3/)

इस प्रकार जो कर्म, मनुष्य को स्वभाव से ही बांधने वाले हैं, वे ही मुक्ति देने वाले हो जाएं – यही वस्तुत: कर्मों में कुशलता है। कर्म करने की ऐसी ही चतुरता को योग कहते हैं कि मनुष्य कर्म करता भी जाए और उसके बंधन में भी न फंसे। काजल की कोठारी में जाकर बिना कालिख लगाए निकल आना ही बड़ी भारी चतुरता है। ऐसी ही कुशलता योग से प्राप्त होती है कि कर्म करता भी जाए और उसका फल भी अपने पर आने न दे।

इस प्रकार देखा जाए तो योग: कर्मसु कौशलम् योग की परिभाषा से बढ़कर उसकी महिमा का उद्घोष है।

डॉ. श्यामदेवमिश्र, सहायकाचार्य (ज्योतिष), राष्ट्रिय-संस्कृत-संस्थान, भोपाल परिसर, भोपाल, म.प्र.

 

योग: कर्मसु कौशलम्

[It was broadcasted by International Broadcast service, All India Radio, New Delhi in 2016 on the occasion of International Yog Day]

डॉ. श्यामदेवमिश्र

‘योग: कर्मसु कौशलम्’ यह श्लोकांश योगेश्वर श्रीकृष्ण के श्रीमुख से उद्गीरित श्रीमद्भगवद्गीता के द्वितीय अध्याय के पचासवें श्लोक से उद्धृत है। श्लोक इस प्रकार है –

“बुद्धियुक्तो जहातीह उभे सुकृतदुष्कृतेतस्माद्योगाय युज्यस्व योग: कर्मसु कौशलम्”।।इति।।

श्लोक के उत्तरार्ध पर यदि गौर करें तो दो बातें स्पष्ट होती हैं। पहली योग की परिभाषा एवं दूसरी योग हेतु प्रभु का स्पष्ट निर्देश। उनका उपदेश है कि ‘योगाय’ अर्थात् योग के लिए अथवा योग में, ‘युज्यस्व’ अर्थात् लग जाओ। कहने का तात्पर्य है कि ‘योग में प्रवृत्त हो जाओ’ यानि कि ‘योग करो’। अब प्रश्न यह है कि क्यूँ करें योग? इस प्रश्न का उत्तर उन्होंने श्लोक के पूर्वार्ध में दिया है कि बुद्धिमान व्यक्ति अर्थात् योगी, वर्तमान में ही अथवा इस संसार में ही ‘सुकृत’ एवं ‘दुष्कृत’ अर्थात् पुण्य एवं पाप से मुक्त हो जाता है। योग के इस हेतु को स्पष्टतया जानने के लिये, सबसे पहले यह समझना परमावश्यक है कि ‘योग क्या है’? या ‘योग किसे कहते हैं’?

httpwww.boisetemple.orgbhakti-yoga

(Source of Image: http://www.boisetemple.org/bhakti-yoga/)

गीता में ‘योग’ शब्द के तीन अर्थ हैं – १. समता; जैसे – समत्वं योग उच्यते(२/४८); २. सामर्थ्य, ऐश्वर्य या प्रभाव; जैसे – पश्य मे योगमैश्वर्यम्(९/५); और ३ समाधि; जैसे – यत्रोपरमते चित्तं निरुद्धं योगसेवया(६/२०)। यद्यपि गीता में ‘योग’ का अर्थ मुख्य रूप से समता ही है तथापि ‘योग’ शब्द के अंतर्गत तीनों ही अर्थ स्वीकार्य हैं। इसके अतिरिक्त गीता में योग की तीन परिभाषाएं भी मिलती हैं जो कि दूसरे अध्याय के क्रमश: ४८वें एवं ५०वें श्लोक में तथा छठे अध्याय के २३वें श्लोक में निर्दिष्ट हैं। ये परिभाषाएं क्रमश: इस प्रकार हैं –

“समत्वं योग उच्यते”(गीता २/४८)

“योग: कर्मसु कौशलम्” (गीता २/५०)

तं विद्याद्दु:खसंयोगवियोगं योगसंज्ञितम्।(गीता /२३)

‘योग: कर्मसु कौशलम्’  के दो अर्थ लिये जा सकते हैं –

1. कर्मसु कौशलं योग: अर्थात् कर्मों में कुशलता ही योग है।

२. कर्मसु योग: कौशलम् अर्थात् कर्मों में योग ही कुशलता है।

यदि हम पहला अर्थ लें यानि कर्मों में कुशलता ही योग है तो, जो बड़ी ही कुशलता से सावधानी से ठगी, चोरी या फिर हत्या आदि कर्म करता है उसका कर्म भी ‘योग’ हो जाएगा! किन्तु ऐसा मानना उचित नहीं है और फिर श्लोक में निषिद्ध कर्मों का प्रसंग भी नहीं है। अगर हम यहाँ ‘कर्म’ शब्द से केवल शुभ कर्मों का ही ग्रहण करें तब फिर ‘कर्मसु कौशलम् योग:’ इस पद के दो अलग-अलग परिप्रेक्ष्य में भावार्थ निकलेंगे जो प्रसंग-विशेष में तो ठीक प्रतीत होते हैं किन्तु गीता में प्रभु द्वारा प्रतिपादित योग के सिद्धांतों से इतर सिद्ध होते हैं। आइए उन दोनों पर ही गौर करते हैं –

शुभ कर्मों में कुशलता ही योग है अर्थात् शुभ कर्मों को कुशलतापूर्वक करना ही योग है। इस अर्थ में ‘योग’ शब्द से मानसिक, बौद्धिक एवं शारीरिक समन्वयन एवं तादात्म्य अभिप्रेत है। यानि मन, बुद्धि एवं शरीर इन तीनों को एक साथ जोड़कर जब हम कोई कार्य करते हैं तो निश्चित ही उस कार्य में कुशलता या संपूर्ण दक्षता प्राप्त होती है, जिसे योग कहते हैं। व्यावहारिक परिप्रेक्ष्य में, यह अर्थ सटीक है एवं सफलता के सूत्र-रूप में स्वीकार्य है। आधिदैविक या अलौकिक परिप्रेक्ष्य में इसका भावार्थ यह है कि यदि कुशलतापूर्वक अर्थात् मन, बुद्धि एवं क्रिया तीनों के ही संयोग से यदि जप-तपादि अनुष्ठान किया जाए तो निश्चित ही अभीष्ट (शक्ति/सिद्धि) से योग (या संयोग) होता है।

अब यहाँ प्रश्न यह है कि उक्त दोनों ही भावार्थ, गीता में प्रतिपादित योग की संकल्पना से किस प्रकार भिन्न हैं? इसको समझने के लिए योग की परिभाषा को समझना होगा, जिसमें कहा है  –

योगस्थ: कुरु कर्माणि सङ्गं त्यक्त्वा धनञ्जय

सिद्ध्यसिद्ध्यो: समो भूत्वा समत्वं योग उच्यते”।। (गीता २/४८)

अर्थात्हे धनञ्जय! तुम योग में स्थित होकर शास्त्रोक्त कर्म करते जाओ। केवल कर्म में आसक्ति का त्याग कर दो और कर्म सिद्ध हो या असिद्ध अर्थात् उसका फल मिले या फिर न मिले, इन दोनों ही अवस्थाओं में अपनी चित्तवृत्ति को समान रखो। अर्थात् सिद्ध होने पर हर्ष एवं असिद्ध होने पर विषाद अपने चित्त में मत आने दो। यह सिद्धि एवं असिद्धि में सम-वृत्ति रखना ही योग है ।

यहाँ ‘योग’ शब्द कर्मयोग का ही बोधक है। यहाँ न केवल कर्म के स्वर्गादि फलों के छोड़ने की बात कही गयी है अपितु प्रातिस्विक फल की आशा छोड़कर कर्म करने से जो चित्त-शुद्धि या भगवत्प्रसाद आदि फल प्राप्त होते हैं, उनकी सिद्धि-असिद्धि में भी सामान भाव रखने की बात कही गयी है अर्थात् यह विचार मत करो कि इतने दिन मुझे कर्मयोग में लग गए अभी तक मेरी चित्त-शुद्धि कुछ नहीं हुई या भगवत्प्रसाद के कुछ लक्षण मुझे दिखाई नहीं दिए। तुम तो केवल कर्त्तव्य समझकर कर्म करते जाओ, इस कर्म का फल क्या हो रहा है इस ओर कोई दृष्टि ही न दो। इसी का नाम योग या कर्मयोग है। इस श्लोक की व्याख्या में कई विद्वानों ने योग का अर्थ परमात्मा से सम्बन्ध माना है यानी परमात्मा से सम्बन्ध रखते हुए कर्म करो अर्थात जो कुछ करो वह परमात्मा को प्रसन्न करने के ही उद्देश्य से करो और कर्मों को परमात्मा को ही अर्पण कर दिया करो।

योग या कर्मयोग के पूर्वोक्त स्वरूप के आलोक में अब हम पुन: योग: कर्मसु कौशलम् के उन पूर्वोक्त भावार्थों पर विचार करते हैं। अगर यहाँ शुभ-कर्मों को ही कुशलतापूर्वक करने का नाम योग मानें तो मनुष्य कुशलतापूर्वक साङ्गोपाङ्ग किये हुए शुभ-कर्मों के फल से बंध जाएगा। कहा भी है– फले सक्तो निबध्यते; अत: उसकी स्थिति समता में नहीं रहेगी और उसके दुखों का नाश नहीं होगा। फलत: प्रभु द्वारा प्रतिपादित योग की संगति इस अर्थ में नहीं बैठेगी।

यहाँ एक जिज्ञासा है कि शुभ कर्मों को करने के बाद भी मनुष्य दु:ख क्यूँ पाएगा? इसका समाधान यह है कि कितना भी शुभ कर्म-करने वाला क्यूँ न हो किन्तु मनुष्य की सभी इच्छाएं पूर्ण नहीं होतीं अथवा सब कुछ सर्वदा ही उसके मनोनुकूल नहीं होता; जो कि अंतत: उसे दुःख ही पहुঁचाता है। यदि ऐसा नहीं होता तो फिर मर्यादा पुरुषोत्तम राम या फिर सत्यवादी हरिश्चंद्र, जो कि स्वप्न में भी अशुभ कर्मों से दूर रहे, उन्हें अत्यंत कष्ट क्यों झेलना पड़ता!

तब ऐसे में प्रश्न उठता है कि दु:ख की आत्यन्तिक निवृत्ति कैसे हो? इसका उत्तर है – जीवन-मरण-चक्र से मुक्ति अर्थात् मोक्ष होने पर। ये कब होगा? उत्तर है – कर्मफलों के संपूर्ण भुक्त हो जाने पर। फिर शंका हुई कि जब तक जीवन है तब तक न तो कर्म करना कभी समाप्त होगा और न ही उसके फल का भोग और बिना फल भोगे तो कृत-कर्म की समाप्ति भी नहीं होगी; कहा है –नाभुक्तं क्षीयते कर्म। कहने का तात्पर्य यह है कि कर्म से फल की उत्पत्ति एवं फल-भोगार्थ पुन: कर्म; इस प्रकार से तो यह अनवरत चलने वाला क्रम बन गया। दूसरे शब्दों में, जीवन-मरण-चक्र से मुक्ति ही नहीं होगी। यह सुनकर तो और दुःख बढ़ ही गया। अरे भाई! जब तक मुक्ति नहीं होगी तब तक दु:ख भी समाप्त नहीं होगा। यह तो बड़ी ही भारी विपदा है! क्योंकि जो व्यक्ति धरती पर आया है उसका कर्मासक्त होना और फिर इस आसक्ति के कारण दु:खी होना निश्चित है। शास्त्रों में आया है –कर्मणा बध्यते जन्तु: अर्थात् कर्मों से मनुष्य बंध जाता है। कर्म कितने ही बढियां हों, उनका आरम्भ तथा अन्त होता है और उनके फल का संयोग और वियोग भी होता है। जिसका आरम्भ और अन्त संयोग और वियोग से होता है, उसके द्वारा मुक्ति कैसे प्राप्त होगी? साथ ही यह प्रश्न भी अनुत्तरित रह गया कि दु:ख के संयोग का वियोग कैसे हो? अर्थात् दु:ख का निवारण कैसे हो?

इन्हीं समस्याओं के समाधान हेतु प्रभु ने योग या कर्मयोग का सिद्धांत प्रतिपादित करते हुए उपदेश किया कि बिना आसक्ति रखे कर्म करना ही योग है, जिससे कारण कर्म के फल अर्थात् भोग से सम्बन्ध छूट जाता है और अन्तत: मुक्त होने के कारण दुःख भी समाप्त हो जाते हैं। इसी कारण प्रभु ने ‘योग’ को दु:ख के संयोग का वियोग भी ही माना है –

तं विद्याद्दु:खसंयोगवियोगं योगसंज्ञितम्।(गीता /२३)

यदि उपर्युक्त अर्थ (यानि कर्मों में कुशलता ही योग है) का ही ग्रहण करना अभीष्ट हो तो फिर कुशलता का अर्थ समत्व या निष्कामभाव यानि कि ‘योग’ लेना होगा। किन्तु जब उपर्युक्त पद में ‘योग’ शब्द आया ही है तो फिर पुन: कुशलता का अर्थ योग करने की क्या आवश्यकता है? यानि “कर्मों में कुशलता ही योग है” इस अर्थ से काम नहीं चलेगा। ऐसी स्थिति में “योग: कर्मसु कौशलम्” का ‘योग ही कर्मों में कुशलता है’ ऐसा सीधा अर्थ क्यों न ले लिया जाए? पूर्व के श्लोक में योग की परिभाषा से स्पष्ट है कि यहाँ योग ही विधेय है कर्मों की कुशलता नहीं फिर कर्म तो नाशवान हैं; नाशवान् के द्वारा अविनाशी की प्राप्ति नहीं हो सकती है। अत: महत्त्व योग का है, कर्मों का नहीं। अत: “योग: कर्मसु कौशलम्” का यही अर्थ – ‘योग ही कर्मों में कुशलता है’ उचित प्रतीत होता है।

(to be continued…)

डॉ. श्यामदेवमिश्र, सहायकाचार्य (ज्योतिष), राष्ट्रिय-संस्कृत-संस्थान, भोपाल परिसर, भोपाल, म.प्र.

Children in Epics

Children of ancient intellectual traditions that are remembered time to time in reference to spiritually, strength, determination and firmness:-

Lava and Kusha

Kuṥa and his twin brother Lava were the children of Lord Rāma and his wife Sītā, whose story is recounted in the Hindu epic Rāmāyaṇa written by Valmīki. According to Uttara Kāṇḍa of this great epic, pregnant Sītā was banished from the kingdom of Ayodhyā by Rāma due to the gossip of general folk of kingdom. She then took refuge in the ramof the sage Valmīki located on the banks of the Tamasā river. According to Rāmāyaṇa, Sītā gave birth to both Lava and Kuṥa at the same time in the support of Valmīki’s disciples. Kuṥa was the elder of the two and is said to have whitish complexion like their mother, while Lava had blue complexion like their father. Names to both kids were given by sage Valmīki. They were educated and trained in military skills and given many natural powers under the tutelage of Valmikī. When Rāma performed the Ashvamedha Yajn᷈a, Lava and Kuṥa attended it with their fatherly sage. At that occasion, they sang the story of Rāmāyaṇa in the presence of king Rāma and his vast audience. When Lava and Kuṥa recited about Sītā’s exile, Rāma became grief-stricken and Valmīki produced Sītā. Sit̄ā called upon the earth, her mother, to receive her and as the ground opened, she vanished into it. Rāma then learnt that Lava and Kuṥa were his children.  Launandan-3

Some poetic works have depicted poetically that Lava and Kuṥa caught the horse of Yajn᷈a during the phase of Aṥvamedha Yajn᷈a, and for that they also gave a good fight to Rāma. Brave sons of Rāma, Lava and Kuṥa became rulers after their father and founded the cities Lavapurī and Kasur respectively. These children are known today for their amity, fearlessness and charm.

Abhimanyu

Abhimanyu, mentioned in the great epic Mahābhārata, was the courageous son of the great Arjuna and Subhadrā, and the nephew of Lord Kṛṣṇa. His story begins just before he was born. When Abhimanyu was in his mother’s womb, Ṥri Kṛṣṇa used to take his sister Subhadrā on excursions. Kṛṣṇa used to relate many of his adventures to the pregnant Subhadrā for her delight. Once he was narrating his experience with the technique of Cakra-vyūha, a military formation which was an effective form of defense. The army would be arranged in the form of a circular grid and would then challenge the enemy to break that grid. It seems that Subhadrā did not find this topic interesting and therefore, after some time she felt asleep. However, someone else was interested in Kṛṣṇa’s narration and he was Abhimanyu in his mother womb. He was carefully following all steps of this vyūha. When Kṛṣṇa noticed that Subhadrā was not responding and she was indeep sleep, he gave up his narration and returned to the palace. Thus, Abhimanyu could only obtain the technique of entering into the circles of the cakra-vyūha. Whatever he had heard from Kṛṣṇa, he carefully preserved in his memory.Unfortunately, he could not know the technique of breaking its circles. He grew up to be a brave, handsome adolescent young man. Many years later, during the Mahābhārata war at Kurukṣetra, the Kauravas set up a cakravyūha and challenged Pāṇḍavas to break it. Only Arjuna knew the technique of doing so, but he was fighting elsewhere at that time. To meet the challenge, Abhimanyu came forward and offered his services for the task of breaking the cakra-vyūha. Despite his incomplete knowledge of the technique, he entered the grid and overcame one circle after another, until he come to the seventh one, the breaking of which he had no knowledge. Brave and ambitious Abhimanyu fought heroically in the unequal struggle but finally met his end.

abhimanyu-badh-gauri-shanker-soni

This story highlights the importance of the childhood saṁskāras and mental growth of a child. Abhimanyu is always remembered for sharp memory, intelligence, courage and bravery.

-Dr. Shashi Tiwari, President, WAVES–India & Former Prof. of Sanskrit, Maitreyi College, University of Delhi

श्री परशुराम आधारित अवतारवाद-विश्लेषण

-डॉ. श्यामदेवमिश्र

आज के सामाजिक अस्त-व्यस्तता के युग में क्रांतिकारी विचारों की आवश्यकता है। परशुराम के जीवन अवतार की वर्तमान में प्रासंगिगकता और अनुकरणीयता को प्रस्तुत आलेख में स्पष्ट करने का प्रयास किया गया है।

(Editor’s note)

अवतारवाद का औचित्य

परब्रह्म-तत्व को मन और बुद्धि से नहीं जाना जा सकता है अत:, उसके विषय में चिन्तन करने के लिए जितने भी उपाय शास्त्रों में वर्णित हैं उसमें ‘अवतारवाद’ सबसे उत्तम कहा जा सकता है क्योंकि जब निर्विशेष (अर्थात् गुण, आकृति आदि से रहित) ब्रह्म बुद्धि में आ ही नहीं सकता है तब उसकी उपासना कैसे सम्भव होगी? ऐसे में मनुष्य, प्रत्यक्ष दिखाई पड़ने वाले पदार्थों में परमेश्वर के लक्षण देखकर उन्हें (उन पदार्थों को) आलंबन (सहारा) मानकर ब्रह्मभाव से उसकी उपासना करता है। उसमें भी, चेतना में – विशेषकर मनुष्यरूप में,  ब्रह्मत्व का भाव रखना तथा उसकी उपासना करना अत्युपयोगी व सरल है क्योंकि उपासक मनुष्य का मन अपने सजातीय में स्वाभाविक रूप से लगने के कारण उससे ही प्रेम करने लगता है जिससे, चित्त स्थिर हो जाता है । यही ‘अवतारोपासना’ है ।

अवतार की अवधारणा

सर्वत्र स्थित, सदा प्रकाशित, शाश्वत, एकरूप शक्ति के अतिरिक्त कोई भी शक्ति नहीं है जो हमारी ज्ञानेन्द्रियों में प्रवेश कर सके। वही चैतन्य शक्ति जब इन्द्रियग्राह्य होने के लिए स्थूल बनता है अर्थात् अपने उच्च स्वरूप से नीचे अवतरण कर स्थूल रूप धारण करता है, तब उसे ईश्वरीयशक्ति का अवतार होना कहते हैं। गीता के चतुर्थ अध्याय के छठे श्लोक “अजोऽपि सन्नव्ययात्मा ……सम्भवाम्यात्ममायया” में भगवान् स्वयम् अवतरण को स्पष्ट करते हुए कहते हैं कि मैं जन्मरहित, अविनाशी तथा सभी भूतों में रहते हुए भी अपने अनन्त-रूप-धारण-सामर्थ्य-सम्पन्नरूपी स्वभाव-धर्म-शक्ति का उपयोग करके अपनी माया से स्थूल जगत् में अवतार धारण करता हूँ।

दश अवतार

वराहपुराण के अनुसार दश अवतार क्रमशः इस प्रकार हैं –

  1. मत्स्य: कूर्मो 3. वराहश्च 4. नृसिंहो 5. वामनस्तथा
  2. रामो 7. रामश्च 8. कृष्णश्च 9. बौद्ध: 10. कल्की तथैव च ।।

इसमें छठे अवतार राम अर्थात् परशुराम थे। इसके अतिरिक्त पुरुषावतार, गुणावतार, मन्वन्तरावतार इत्यादि प्रसिद्ध हैं ।

cleanh3sha2uf_ael_2_300

(Source of image: http://vishnudashavatars.blogspot.in/2010/04/vishnu-dashavatar.html)

अवतारों के प्रकार

यद्यपि सभी अवतार परिपूर्ण हैं, किसी में तत्त्वत: न्यूनाधिक्य नहीं है; तथापि शक्ति के प्रकटन की न्यूनता-अधिकता के आधार पर अवतारों के चार प्रकार माने गए हैं –

1. आवेश, २. प्राभव, ३. वैभव और ४. परावस्थ

परशुराम, कल्की आदि आवेशावतार हैं। कूर्म, मत्स्य, वराह आदि वैभवावतार तथा श्रीनृसिंह, श्रीराम एवं श्रीकृष्ण परावस्थवतार या पूर्णावतार हैं ।

अवतार का प्रयोजन?

अवतरण हेतु आवश्यक परिस्थिति या उचित काल को भगवान ने स्वयं ही गीता में बताया है –

“यदा यदा ही धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत। अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्याहम् ।।”

(गीता 4.7)

अर्थात् जब धर्म की हानि होती है और अधर्म का उत्थान होता है तब मैं अवतार लेता हूँ।

अवतार का प्रयोजन आगे स्पष्ट करते हैं –

“परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम् । धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे युगे ।।”

(गीता 4.8)

अर्थात् सज्जनों की रक्षा करने के लिए, दुष्टों का संहार करने के लिए तथा धर्म की पुन: प्रतिष्ठा करने के लिए मैं हर युग में अवतार लेता हूँ।

विचार किया जाए तो किसी व्यक्ति, वस्तु या घटना की प्रासङ्गिकता अथवा समसामयिकता का निर्धारण एवं मूल्याङ्कन, काल तथा प्रयोजन के अधीन (सापेक्ष्य) है। ऊपर के भगवदुक्त श्लोकों से स्पष्ट है कि अपने अवतरण हेतु उचित काल तथा प्रयोजन-विशेष का निर्धारण जगत-नियंता (ईश्वर) के ही हाथ में है। अत:, सामान्य रूप से विचार करने पर सर्वाधिक-सर्वथा-उचित काल में समसामयिक व प्रासङ्गिक उद्देश्य से युक्त भगवत-अवतरणों की तत्तत्कालीन प्रासङ्गिकता स्वत: स्पष्ट हो जाती है । चूंकि, काल-क्रम से अधर्म की वृद्धि व धर्म की हानि युग-धर्म है अत: प्रत्येक युग में अवतारों की प्रासंगिकता भी उतनी ही रहेगी । किसी एक अवतार-विशेष को, चाहे वह परशुराम हों या अन्य कोई, इससे अलग  रखकर विचार नहीं किया जा सकता है। भगवदवतरणों के सम्बन्ध में (प्रासंगिकता, समसामयिकता और महत्त्व पर) इससे अधिक कहना पिष्टपेषण (चबाये हुए को चबाना) ही होगा क्यूंकि, उस विषय में भगवान स्वयं ही वचनबद्ध हैं-

“यदा यदा ही धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत। अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्याहम्।।

(और उनसे अधिक काल और कालानुरूप प्रासङ्गिकता को कौन जान सकता है!!)

वैसे विचार किया जाए तो, प्रत्येक अवतार एक नायक ही तो है । इन अलौकिक नायकों (अवतारों) से इतर, समाज को नई दिशा दिखाने वाले स्वामी विवेकानन्द सदृश विशिष्ट-शक्ति-सम्पन्न लौकिक नायकों की प्रासंगिकता तो हर युग में रहेगी ही और फिर वर्तमान में तो, युग-धर्म के कारण, नितान्त अशक्त और नाना प्रकार के जञ्जालों में फंसे हुए मानवों के लिए, ऐसे नायकों का सम्पूर्ण जीवन-चरित्र ही प्रेरणादायक और अनुकरणीय होने के कारण और भी प्रासंगिक है। ऐसे में न केवल प्रभु के सभी रूप (अवतार) प्रासङ्गिक नज़र आते हैं अपितु इन अवतारों का स्मरण, अनुकीर्तन आदि ही समस्त दुखों का नाश करने वाला बन जाता है । कहा ही है –

“यस्य स्मरणमात्रेण जन्मसंसारबन्धनात्। विमुच्यते नमस्तस्मै विष्णवे प्रभविष्णवे।।”

जहां तक प्रश्न अवतारों के वर्ग (जाति) का है (विशेषकर, परशुराम अवतार में), मेरी समझ से अवतारों को जातिगत-दृष्टि से देखना किसी भी व्यक्ति के लिए (चाहे वह इतर अवतारों की अपेक्षा, अवतार-विशेष में विशिष्ट प्रीति रखने वाला हो या उसके विरुद्ध विचार या आचरण वाला हो) कतई न्यायपूर्ण या तर्कपूर्ण नहीं है। यह तो न सिर्फ उल्टे भगवान् को ही बांटने जैसा हो गया बल्कि उसकी अवतार-व्यवस्था के मूल पर ही आघात करने जैसा है क्यूंकि, जिसका अवतरण ही समाज को धर्मयुक्त व संगठित करना तथा समाज का कल्याण करना है उसको (विरोधी विचार रखने वालों के द्वारा) धर्म-विशेष, जाति-विशेष का प्रतिनिधिभूत मानकर अवतारविशेष के प्रति अरुचि या अश्रद्धा का भाव रखना अथवा कुछ दिग्भ्रमित लोगों के द्वारा, उस अवतार-विशेष को केवल अपने ही वर्ग का गौरव बताना नितान्त भ्रमोत्पादक व कलहोत्पादक है ।

परशुराम जी के विषय में एक अन्य बड़ा प्रश्न यह उपस्थित होता है कि जब वह अवताररूप हैं तब अन्य अवतारों की भांति उनका पुनर्गमन क्यूँ नहीं हुआ और वे चिरजीवी कैसे रह गये? वस्तुत: वैष्णव-परम्परा में परिगणित दश अवतारों में परशुराम आवेशावतार माने गए हैं अर्थात्, भगवदंश का आवेश उनमें है इसीलिये वे अंशावतार कहे गए हैं। आवश्यकता पड़ने पर, भगवदंश से आविष्ट परशुराम जी ने अपने अवतरण का प्रयोजन सार्थक किया और भविष्य में भी तादृश परिस्थिति उत्पन्न होने पर परब्रह्म (वैष्णवागम में प्रभु विष्णु) की प्रेरणा से वह पुन: अपने अवतरण को सार्थक कर सकें एतदर्थ ही वे चिरजीवी भी हैं। कहने का आशय यह है कि सामान्यत: वे मनुष्य-रूप होने के कारण चिरजीवी हैं किन्तु, परिस्थिति-विशेष में उनका, अन्तस्थ भगवदंशरूप आवेशावतार लोक-कल्याणार्थ प्रकटित होता है ।

 उपसंहार

सुनीति एवं सद्धर्म ही उन्नति का सर्वोत्तम मार्ग है। अतः, जो अधर्म एवं कुरीतियों का हटाकर इनकी प्रतिष्ठा करते हैं, वो महापुरुष कहलाते हैं। भगवान् परशुराम ने तत्कालीन समाज में व्याप्त अनैतिकता एवं राक्षसी प्रवृत्तियों का समूलोच्छेद करके सनातन धर्म की स्थापना की। निश्चय ही भगवदंशावतार श्री परशुराम का इतिवृत्त एवं जीवन-चरित्र का सतत अनुशीलन न केवल हमें अपने देश के गौरवशाली इतिहास का दिग्दर्शन कराता है अपितु अपनी संस्कृति व सभ्यता के रक्षार्थ सतत प्रेरणा का भी संचार करता है।

-डॉ. श्यामदेवमिश्र, सहायकाचार्य (ज्योतिष), राष्ट्रिय-संस्कृत-संस्थान, भोपाल परिसर,भोपाल, म.प्र.