Relevance of Gandhi in Today’s World

AS

Dr. Anju Seth

Looking at the present state of affairs in India, the birthplace of Gandhi, one would probably surmise that Gandhism, whatever the term may mean, cannot have any relevance in this twenty-first century. Gandhi is rightly called the Father of the Nation because he single handedly stood up against the mighty British Empire, without any arms, and brought her independence. However, today, Gandhi is mostly forgotten and his relevance questioned even by his ardent devotees. Today Gandhi is remembered in India mostly on his birthday which is celebrated as a national holiday rather as a ritual.

Gandhiji Line Drawings (1)

(Source of Image : http://devang-home.blogspot.com/2011/08/sketches-of-mahatma-gandhi.html)

As a matter of fact, India is not following any of Gandhi’s teachings which are mostly confined to text books. In fact, since independence, the country has witnessed many violent communal riots in this multi communal country. Gandhi’s message of ‘swābalambī’, self-sufficiency with home spun ‘khādī’ cloth is not used now-a-days even as a social slogan. Statistics shows that the country is definitely not following ‘sarvodaya’, a broad Gandhian term meaning ‘universal upliftment’ or ‘progress of all’ reaching the masses. On the contrary, India today has the unique distinction of being the only country in the world which has the richest man in the world while at the same time more than 30 per cent of its population lives in dire poverty.

The above shows that today, Gandhism is a very confused ‘ism’ in India. Today many politicians in India use the term merely as a slogan and the common man make Gandhi almost out of reach of the younger groups by making Gandhi an unwilling ‘avatāra’. That may be one reason why the only photo we see of Gandhi in India is always that of an old man which brings the image of a very simple and pious man who was meek and mild like Jesus Christ. While Gandhi was not a simple man to say the least, the above does not gives the right image of Gandhi and does not bring any inspiration to the younger group, the group most relevant for Gandhi.

But Mahatma Gandhi, in this twentieth century, produced a very sophisticated approach because he implemented that very noble philosophy of ahimsā in modern politics, and he succeeded. That is a very great thing.”

And that is precisely the greatness of Gandhi and that is the message of Gandhi to the modern world. In the past century many places in the world have been drastically changed through the use of brute force, by the power of guns the Soviet Union, China, Tibet, Burma, many communist countries in Africa and South America. But eventually the power of guns will have to be changed by the will of the ordinary people. If we try to analyze the secrets of Gandhi’s success, we would probably find Faith and Action and Populism, the three most important aspects of his life. Gandhi’s extra ordinary communion with the masses of ordinary people was another of his secrets. In contrast to many of our present day leaders of this highly democratic world, Gandhi was a true leader and friend of the people. Disaku Ikeda, the Japanese Buddhist leader who takes great inspiration from Gandhi has this to say about him. “His activism is not mere action but contains many aspects of a spiritual practice that is inspired by the inner urging of the conscience”.

The phenomenal success Gandhi registered in far-away South Africa fighting for human rights and civil liberties has great significance when we find that later his teachings were adopted not only by Nelson Mandela, the South African freedom fighter, but it was also subsequently revealed that the former South African president De Klerk was greatly influenced by Gandhi’s principles. In fact, from Dalai Lama to Desmond Tutu and from Martin Luther King to Nelson Mandela, many world leaders were inspired by Mahatma Gandhi, all in their own different ways.

Gandhi left many valuable sayings for the modern man to fight for goodness in society in a non-violent way. “Good” Gandhi said “travels at a snails pace.” “Non-violence” Gandhi said “is a tree of slow growth. It grows imperceptibly but surely.” And then “Mere goodness is not of much use.” Gandhi stated. “Goodness must be joined with knowledge, courage and conviction. One must cultivate the fine discriminating quality which goes with spiritual courage and character.” The modern man can also take great wisdom from what Gandhi said the seven social sins: Politics without principles; Wealth without work; Commerce without morality; Education without character; Pleasure without conscience; Science without humanity; Worship without sacrifice.

It was the unique non-violent movement under his leadership that earned for India freedom from the colonial rule. In spearheading the campaign against the alien rule, Gandhiji adopted the innovative techniques of civil disobedience and social transformation, which had several exemplary features.

The Gandhian technique of mobilizing people has been successfully employed by many oppressed societies around the world under the leadership of people like Martin Luther King in the United States, Nelson Mandela in South Africa, and now Aung Saan Sun Kyi in Myanmar, which is an eloquent testimony to the continuing relevance of Mahatma Gandhi.

In India, economic development has been mostly confined to the urban conglomerates. In the process, the rural India that comprises 700 million people has been given short shrift. Gandhiji’s philosophy of inclusive growth is fundamental to the building of a resurgent rural India. He believed in “production by the masses” rather than in mass production, a distinctive feature of the industrial revolution. It is surprising, even paradoxical, that these days Gandhian philosophy should find increasing expression through the most modern technology! Now, it is possible to establish small-scale and medium-scale factories in smaller towns and remote corners of the country, thanks to the phenomenal innovations in communication and information technologies. New technologies have brought in widespread and low-cost electronic connectivity that enables instantaneous contact between industrial units and the sellers and consumers of their products. Location and logistics are no more a limitation or constraint for industrial development.

If we say that the twenty-first century is the century of the common man, then we see that Gandhism has even more relevance in this age, and Gandhi will inspire generations of individuals fighting for goodness of the society. If today we find that Gandhism is in severe test in countries like India, it is not because there is certain inherent weakness in Gandhism, but it is because we have not seen in India strong leaders with the required courage and conviction to fight the evils in society. We may borrow Gandhi’s own words on Ahimsā, and say that Gandhism is only for the courageous people.

-Dr. Anju Seth, Associate Professor, Department of Sanskrit, Satyawati College (Day), University of Delhi, Delhi, India

Advertisements

स्वतंत्रता की भारतीय शैली

-प्रोफ़ेसर बलराम सिंह

Independence का वास्तविक अर्थ आत्मनिर्भरता है। In का अर्थ है inside अर्थात् आत्मा के स्तर तक पहुँचना और फिर उसी पर निर्भर होना अथवा dependent हो जाना। जब व्यक्ति आत्मश: कार्यरत होता है तो उसका आत्मबल सदैव पुष्टित होता रहता है। उसके लिए सारा जग आत्मीय बन जाता है। वह ‘अयम निज: परोवेति’ की गणना लघुचेतीय समझता है। उसके अंत:करण में चिरक़ालीन उदारता झकोरे लेने लगती है, तथा ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ के सम्मत भाव जागृत हो जाते हैं। यहाँ तक कि उनके यहाँ ‘संताने तनय व तनया’ तक न सीमित रहकर आत्मज और आत्मजा के रूप उत्पन्न होने लगती हैं अर्थात् आत्मबीज ही अंकुरित, पल्लवित, पुष्पित. व फलित होता है। ‘अहम् ब्रह्म अस्मि’ की अनुभूति सार्थक हो जाती है। ये है independence की वास्तविक महिमा! ये एक दिन में सीमित नहीं हो सकता, ये तो कल्पों का माजरा है जनाब!!

bharat

Independence का दूसरा अर्थ है है स्वाधीनता, अर्थात् अपने को पूरी तरह से पहचान कर उसके आधीन हो जाना अथवा उसी की सत्ता के आधीन कार्यरत हो जाना। अपने को पहचानने का अभिप्राय है अपने धर्म को पहचानना, और उसी आधार पर गुण और कर्म निर्धारित करना। स्वधर्म की पहचान का तात्पर्य है अपनी प्रकृति को गहराई से समझना, बूझना, और परखना। जब व्यक्ति इस स्तर पर पहुँच जाता है तब अपनी प्रकृति को ही आधार बनाकर उसी में श्रद्धा एवं भक्ति से संलग्न होकर कर्म करता है। उसके अतिरिक्त कुछ नहीं करता। श्रीकृष्ण ने भगवद्गीता में इसका उद्धरण इस प्रकार किया है- ‘स्वधर्मे निधनम श्रेय: परधर्मों भयावह’, अर्थात् अपने धर्म के अनुसार आचरण में सबकुछ मिट जाना भी श्रेयस्कर है। यही नहीं किसी अन्य के धर्म अर्थात् प्रकृति का आचरण भयावह होता है इसलिए स्वाधीनता अत्यंत आवश्यक मानवीय दशा है जो मानव ही नहीं बल्कि पूरी समष्टि के लिए कल्याणकारी है।

Independence का तीसरा अर्थ है स्वतंत्रता अर्थात् अपना ही तंत्र होना चाहिए चाहे वो पारिवारिक हो, सामाजिक हो, आर्थिक हो, शैक्षिक हो, अथवा राजनीतिक हो। दूसरों की व्यवस्था यद्यपि उनके लिए कितनी भी उच्च एवं सराहनीय क्यों न हो किसी और के लिए तनावपूर्ण, बलाघाती, भयंकर कलह का कारण बन सकती है। अतः किसी भी देश को एक ऐसी व्यवस्था का सृजन करना चाहिए जिसके अंतर्गत हर एक व्यक्ति को सम्पूर्ण मुक्ति रहे कि वह व्यक्तिगत, पारिवारिक, तथा सामाजिक स्तरों पर अपने ही तंत्र के अनुकूल जीवन यापन कर सके। यह व्यवस्था बाह्य रूप से प्रारम्भ में अनेकता के सिद्धांत पर ही आधारित हो सकती है, अर्थात् कोई uniform civil code नहीं, कोई संविधान नहीं, कोई अधिवक्ता या न्यूनतवक़्ता नहीं, कोई AC में विराजित न्यायाधीश नहीं। मात्र धरातलीय प्रबुद्धजनो की आवश्यकता होती है जिनमे आचार विचार से आत्मबोध झलकता हो। वही सर्वभूतानाम की स्वतंत्रता सुनियोजित व  सुनिश्चित कर सकते है इसीलिए भारत ऋषियों का देश रहा है, स्वतंत्रता के लिए। आधुनिक स्वतंत्रता दिवस  को प्रेरणा का आधार मानकर स्वतंत्रता को शाश्वत बनाने के लिए संकल्पित हों, और इसी का पर्व मनायें आज and forever!! शुभम्

– Prof. Bal Ram Singh, School of Indic Studies, Institute of Advanced Sciences, Dartmouth, MA, USA

Indian Family Traditions, Laws, and Government

Prof. Bal Ram Singh

Traditions can also take ugly forms, such as dowry system, female feticide, outraging modesty of women, etc. which can make family lives of the women (and men) anguished and intolerable. Despite (and may be due to) the laws against dowry, the menace of discord continues to grow in Indian society. Government response to enact further laws to protect women has also taken an ugly turn, and is being used settle scores between families.

Clearly, enacting laws, particularly with selfish culture in mind, is not very effective approach to solve social and family problems. However, government of India has gone on with several intriguing laws to solve family problems. Interestingly, these laws are enacted only for Hindus, the majority community in India, leaving Muslims and Christians untouched presumably to exhibit government’s secular practice. An exception is a bill that was recently introduced againt triple talaq practice of Muslims.

Screenshot_20180731-225958-1

In addition to giving an impression of Hindu practices in need of reforms (thereby wrong), the secular principles borrowed from West where culture and practices are very different are being applied to Indian culture, many times confusing the population, and also at times at the behest of international organizations and groups.

Some of the recent laws or government positions are listed below:

  1. Government of India enacted a law that children are liable to take care of parents, and can be sued by parents if they default.
  2. Parents cannot sell inherited properties without children’s consent.
  3. Live in relationship is fine, citing Radha and Krishna as example of live in relationship.
  4. Girls and boys of less than 16 years of age can have sexual relationship even though marriage age is 18 years for girls and 21 years for boys.

Many may not know that in several states of USA there is no lower age limit on marriage, and many states have provision for marriage as young as 14 years of age!

These laws and assertions are obviously anti-family and anti-Indian culture, and unfortunately applied selectively to Hindu population. Even Supreme court judges took the government to task on the selective application of amendments to Hindus.

The Supreme court of India said  that government’s attempts to reform personal laws don’t go beyond Hindus who have been more tolerant of such initiatives (Times of India, February 11, 2011; http://timesofindia.indiatimes.com/articleshow/7456761.cms?prtpage=1)

“The Hindu community has been tolerant to these statutory interventions. But there appears a lack of secular commitment as it has not happened for other religions.” 

Justices Dalveer Bhandari and A K Ganguly made the observation while hearing petitions filed by the National Commission for Women and its Delhi chapter. The petitioners had sought formulation of a uniform marriageable age and complained that different stipulations in as many statutes had created confusion. 

In fact, the Hindu Marriage Act of 1955 itself is fairly arbitrarily done, and has almost nothing to do with Hindu philosophy or general practices. At least no references are made to any Hindu scriptures, consultation, or consensus. Government continues to make laws for Hindus without even a shred of consideration to either the community or its religious authorities. Many a times Hindu related laws are singled out to be enacted at the behest of a few elite class experiences, international pressure, domestic politics, or to create equivalence to other communities, viz., Christians and Muslims, both communities having extensive references to the social and legal aspects in their religious books, unlike Hindu texts.

It is certainly true that Hindu texts are more of guidance at spiritual, intellectual, and social levels, and allow flexibility for time and place. Nevertheless, a secular government, with a society less inclined to be intellectually engaged at mass level, and much less being sought to provide philosophical input to the provisions, is committing a grave long term mistake in imposing Western practices on its people. This acquires more significance and importance when one considers the diversity that the Hindu community exhibits traditionally, which has continued with the many of the practices of the only living ancient living civilization.

Obviously, there is a major disconnect between the society and the rulers. India is a very large society with many of the cultural intermixes to be ruled by a single set of laws and provisions. India and Hindu represent a diversity of thoughts and practices that is integral to its existence. There is no reference in ancient India to have a constitution, judges, advocates, as wide ranging as it is currently enforced. It has been a self policing society, governed by Kuldharma, Jatidharma, Varnadharma, Rashtradharma, and paramdharama. Currently, uch things are not even seriously considered while making policies and laws for the society.

There are many ills that are creeping in the Indian society, as a result of not considering the traditions, practices, and ancient wisdom in making policies and laws by the politicians and bureaucrats, and in the enforcement by the police and judiciary. It is, therefore, essential to bring the issue of the Indian family system to at least a certain level of intellectual and scholarly debate. It is hoped that such an exercise will spill over into the policy debates and eventually in the society for charting its course for future.

– Prof. Bal Ram Singh, School of Indic Studies, Institute of Advanced Sciences, Dartmouth, MA, USA

माता की अवधारणा

मदर्स डे पर विशेषविमर्श

-डॉ. शशि तिवारी

 

यह संसार भगवान् की अद्भुत रचना है। भगवान् के इस सृजन का हम सब प्राणी उपभोग करते हैं। रचयिता होने से ही ईश्वर को ‘माता’ कहते हैं – त्वमेव माता च पिता त्वमेव । माना गया है कि हम सब ईश्वर के अंश हैं। तो जो गुण ईश्वर में हैं वे प्राणियों में भी हो सकते हैं या कि प्राकृतिक रूप से होने चाहिए। मातृत्व एक ऐसा ही गुण है। केवल मनुष्य ही नहीं पशु-पक्षी भी किसी न किसी प्रकार के सर्जन और निर्मिति की कला में निपुण देखे जाते हैं। हर किसी में रचनाधर्मिता होती है- कभी कम कभी अधिक। तभी देवी की स्तुति में कहा गया है –

            “या देवी सर्वभूतेषु मातॄरूपेण संस्थिता। 

            नम: तस्यै नम: तस्यै नम: तस्यै नमो नम:॥”

वेद में माता-पिता के युग्म को ‘मातरा’ या ‘मातरौ’ कहते हैं यानी माता और पिता दोनों माता ही हैं। इसी तरह द्यावापृथ्वी का नाम ‘मातरा’ है; पृथ्वी हमारी माता है और आकाश पिता। सांसारिक माता और पिता के जोडे के लिए ‘पितरौ’ या ‘पितरा’ शब्द भी प्रयोग में आए हैं; यानी दोनों ही पिता हैं। यह ठीक वैसे ही है जैसे पति-पत्नी के युग्म को ‘दम्पती’ कहते हैं। भारतीय मनीषा ने शब्दों में ही जीवन-मूल्यों को सूत्र में मणियों कि भांति पिरोया हुआ है। तात्पर्य है कि महत्व की दृष्टि से माता और पिता लगभग समान ही हैं। इसीलिए कहते हैं – ‘मातृ देवो भव, पितृ देवो भव’। परंतु जब बात जनन की होती है तो जनि, जनी, जनयित्री आदि नामों से मां को जाना जाता है क्योंकि वह उत्पन्न करने वाली है। केवल उत्पन्न ही नहीं उसके बाद जो लालन-पालन की आवश्यकता है वह भी वही करती है। एतदर्थ उसमें स्नेह और ममता की आवश्यकता है और इसके वाचक अंबा, अम्बि, अम्बी आदि शब्द मां के लिए वेद में प्राप्त होते हैं। इन सब नामों से माता जननी, स्नेहमयी, पूजनी्य़ा, आत्मीया बतायी गयी है। उत्पन्न करने वाली का साक्षात् स्वरूप ‘माता’ पद में दिखाई दे्ता है, इसलिए उसे इस सम्मान से विभूषित किया गया है कि वह जननी है और ईश्वर के समकक्ष है।

5f1515b7fc93c2e205cdf3362b404c92

(Source of image : https://www.pinterest.com/pin/31806741093104880/)

सतत् स्मरणीय है कि साक्षात् माताएं हमारी सम्माननीय हैं; क्योंकि ‘मातृत्व’ मानवीय गुणों में सर्वोपरि है। रचना करना तथा पालन करना – प्रत्येक मनुष्य का धर्म कर्म होना चाहिए, तभी सामजिक संतुलन बना रह सकता है। जब हम मातृ-दिवस मनाये तो ये याद रखें कि यह अपने दायित्वों को वहन करने की शिक्षा देने वाला दिन है। यह रचनाधर्मिता का दिन है या फिर रचनाधर्मिता के अभिनंदन का दिन!

– डॉ. शशि तिवारी,अध्यक्ष, वेव्सभारत 

वेदों के प्रकाश में अपने स्त्रीत्व को खोजें व सही अर्थों में स्वतंत्रता प्राप्त करें

– Mrs. Suvrata Vinod

[ Editor’s Note – शास्त्रार्थ की संवाद शैली का प्रयोग करते हुए लेखिका ने अपने विचारों को यहाँ रखा है।]

शंका – वेद है क्या?

समाधान – वेद एक नियत शब्दराशि है।

शंका  – फिर ये शब्द दूसरे शब्दों से विशेष क्यों? इतिहास के गर्त में न जाने कितनी संस्कृतियाँ, राष्ट्र, समाज, व्यक्ति आए गए।बहुत थोडों का स्मरण शेष रहता है।वह भी अंशों में।वेद भी तो किसी के द्वारा बनाये गये थे और अत एव नष्ट हो रहे है।

समाधान – क्या सब कुछ मनुष्यकृत होना जरुरी है?

शंका – अर्थात् नही।

समाधान – तो सब वाक्य मनुष्यकृत होना जरुरी है?

शंका – हाँ।

समाधान -क्या कोई मनुष्य बिना किसी का वाक्य सुने, वाक्योच्चारण करते देखा गया है?

शंका – नही।परंतु पुरा काल में ऐसा हुआ होगा।

समाधान – अदृष्टपूर्वकल्पना बिना हेतु के करना अंधश्रद्धा है।फिर देखो जीवित कोष से ही कोषांतर देख रहे हो, मान भी रहे हो। ऐसे ही गुरु के पूर्वोच्चारण से शिष्य का अनूच्चारण होता है ऐसा दीख रहा है। फिर सदा से ऐसा हो रहा है ऐसा मानने में क्या आपत्ति है। इन वेदवाक्यों को गुरुशिष्य परंपरा से अत्यंत पवित्रता व परिश्रम से हृदयाकाश में सुरक्षित रक्खा जाता है। वेद किसी लिखित-मुद्रित पुस्तक का नाम नही है।वेद गुरु के हृदय में निवास करते है। उपदेशद्वारा गुरु उसे शिष्य के हृदय में संक्रामित करते है। तब शिष्य भी गुरु होने योग्य हो जाता है। जो वेदों को हृदय में धारण करते है उन्हें हम वेदवित् कहते है। ऐसे व्यक्ति के लिए उसके अपने राग-द्वेष, likes-dislikes, अच्छा-बुरा एक तरफऔर दुसरी तरफ वेदों के विधि-निषेध दोनों ही सामने उपस्थित होते हैं। यही पर पुरुषार्थ का अवसर है जो हमे प्रत्येक व्यक्ति में भिन्न भिन्न स्तर का ज्ञात होता है। जिसके पास पूर्ण स्वातंत्र्य हो उसे सिद्ध वा स्थितप्रज्ञ कहा जाता है।

रागद्वेषवियुक्तैस्तु विषयानिन्द्रियैश्चरन्।आत्मवश्यैर्विधेयात्मा प्रसादमधिगच्छति। श्रीमद्भगवदगीता २.६४

(राग और द्वेष से वियुक्त होकर विषयों का इंद्रिय से ग्रहण करते हुए, उन इंद्रियों को अपने वश ऱखते हुए, न कि उनके दास बनकर, जो व्यक्ति शास्त्रविधि से प्रेरित होकर कार्य करता है वह प्रसन्नता को पाता है। )

यह स्वतंत्रता ही आर्य जीवन में श्रेष्ठता का मापदंड है। जिसमें यह स्वतंत्रता नहीवत् होती है उसे दूसरों के द्वारा नियंत्रित करना आवश्यक हो जाता है। एवं जो व्यक्ति राग-द्वेषों पर नियंत्रण रखते हुए विधि-निषेध का पालन कर सके वह दूसरों को अपने अधीन रखने की योग्यता पाता है। विचारशील व्यक्ति को स्वयं के राग-द्वेष तो विना उपदेश स्वयमेव ज्ञात होते है परंतु विधि-निषेध का ज्ञान तो मनुष्यमात्र को उपदेश से ही प्राप्त होता है।

शंका – उपदेश ग्रहण करने की योग्यता वा पात्रता क्या है?

समाधान – पवित्र वेदों के धारण के लिए योग्य शिष्य चाहिए। जैसे पानी भरने के लिए मजबुत साफ घडा चाहिए।

नाविरतो दुश्चरितान्नाशान्तो नासमाहितः। कठोपनिषद् २.२४

(दुश्चरित से जो बाज नही आया, जो शान्त और समाहित-चित्त नही है, वह केवल प्रज्ञान से उसे (परमात्मा को) नही पा सकता।) 

तदेतत् सत्यमृषिरंगिराः पुरोवाच नैतदचीर्णव्रतोऽधीते। मुण्डकोपनिषद् ३.२.११

(इस (औपनिषदिक आत्म) सत्य को ऋषि अंगिरा ने पहले कहा, इसे वह व्यक्ति न पढे जिसने व्रताचरण न कर लिया हो।) 

तस्मै स विद्वानुपसन्नाय सम्यक् प्रशान्तचित्ताय शमान्विताय प्रोवाच। मुण्डकोपनिषद् १.२.१३

(विद्वान् गुरु उसे उपदेश करे जो पास रहकर सेवा करता है, जिसका चित्त ठीक से शान्त है और जिसकी वासना भी शमन हो गई है।) 

यतन्तोऽप्यकृतात्मानो नैनं पश्यन्त्यचेतसः। श्रीमद्भगवदगीता १५.११

(प्रयत्न करते हुए भी, जिसने अपने कर्तव्य को पुरा नही किया है, वैसे मूढ जन उसे (परमात्मा को) नही देखते।) 

शंका – कहाँ से आयेगा ऐसा शिष्य?

समाधान -परमेश्वर ने यह दायित्व स्त्री को दिया है।

मातृमान् पितृमान् आचार्यवान् पुरुषो वेद। बृहदारण्यकोपनिषद् ४.१.२-७

उत्तम माता, उत्तम पिता और श्रेष्ठ गुरु हो जिसका वही पुरुष उसे (परमात्मा को) जानता है। 

माता पतिव्रता यस्य पिता यस्य शुचिव्रतः। वाल्मीकि रामायण

माता जिसकी पतिव्रता हो और पिता जिसका शुचिव्रत अर्थात् वेदानुयायी है, उसी का मन ललचाता नही है। 

वह क्या है जो स्त्री के पास विशेष है? क्या में इस बहुमूल्य योग्यता को पहिचानती हूँ? क्या मैं इसका सही मूल्य कर पा रही हूँ? इसे संजोए रखने के लिए कुछ त्याग करने को भी तैयार हूँ?

शंका -आप किस बारे में बात कर रहे है हमें नहीं पता।

समाधान -यूरोप अमेरिका में 50 % स्त्रियाँ विवाह करना ही नहीं चाहती।क्या आजकल इंद्रिय-संयम ब्रह्मचर्य बहुत आसान हो गया है? 16 साल से कम उम्र में ही 90% से अधिक कन्याएं अपने कौमार्य को खो देती है।क्या हम भी इनके पिछे चल नहीं रहे? हमारी वेशभूषा तो कुछ ऐसा ही कह रही है।

शंका – क्या ऐसा होने से योग्य शिष्य पैदा नहीं हो सकेंगे? आजकल तो सब बहुत चमक-धमक वाला दीखता है।चारों ओर सुंदर-सुंदर स्त्री-पुरुष।कितना मनोहारी दृश्य है।कितने रंग! कितने स्वाद! कितनी सुगंध! इतनी विविधता प्रचुरता क्या पहले कभी थी? विज्ञान ने हर क्षेत्र मे नई ऊँचाईयों को छु लिया है। हमारे कई प्रश्नों के उत्तर दिये है। मानव आज अधिक सामर्थ्यवान् है।

समाधान – बिलकुल ठीक।मेरे अपने अनुभव से गत 30-40 वर्षों में हम बहुत बदल गये है। हमारे सही-गलत के मापदंड ही परिवर्तीत हो गये। कई बाते जो पूर्व में निंदात्मक थी वे आज प्रतिष्ठित है।जैसे मदिरापान, विवाहपूर्व संबंध, भ्रष्टाचार-रिश्वतखोरी।सर्वत्र दोगला व्यवहार दीख रहा है।अंदर एक बाहर एक।हमारे मापदंड तो परिवर्तनशील है पर क्या प्रकृति के मापदंड भी बदलते है। और अगर प्रकृति के मापदंड नही बदलते तो क्या हम अब सिर्फ नाम के फलाना-फलाना रह गये। संज्ञामात्र! वस्तु बदल गयी लेबल पुराना। प्रश्न है, वेद को धारण करना, आत्मज्ञान प्राप्त करना, इसकी योग्यता पात्रता हमारे मापदंड बदलने मात्र से क्या बदल जायेंगी? क्या पोथी-पुस्तक पढ कर पंडित हो जा सकता है क्या? शुद्धचित्तता हमारी कल्पना का विषय नहीं अपितु नितांत वास्तविकता है जैसे की सुवर्ण की सुवर्णता। हमारे purity standard घटाने मात्र से क्या सुवर्ण अपने स्वरूप को पा सकता है? यदि नहीं, तो हमे याद रखना होगा की वेदों को धारण करने की योग्यता भी हमें यथार्थ में प्राप्त करनी पडेगी। ऐसे अधिकारी शिष्य को जन्म देना और उसका संगोपन करके पिता एवं अनन्तर आचार्य के अधीन करना यह स्त्री का अनन्य कर्तव्य है।

women-body

(Source of image: https://www.menstrupedia.com/articles)

क्या हमे सोचना चाहिये कि नारी स्वतंत्रता हमे कौन सिखा रहा है।क्या हमारे सुसंस्कृत समाज को इसकी जरूरत थी।कहते है-

न स्त्री स्वातंत्र्यमर्हति । मनुस्मृति

स्त्री को यथोचित पुरुष को पुछे बिना कार्य नही करना चाहिए। 

यह अन्याय है। परंतु स्त्री ही नहीं धर्म किसी को भी स्वतंत्र मनमाना व्यवहार करने की अनुमति नही देता।

कः स्वतंत्रः यः ईश्वरतंत्रः।कः परतंत्रः यः इन्द्रियतंत्रः ।मधुसूदन सरस्वती

कौन स्वतंत्र है? जो ईश्वर के अधीन है। कौन परतंत्र है? जो इंद्रियों के अधीन है।

या तो आप साक्षात् वेद को धारण कर आत्मानुशासन में रहें या…। पर समाज में बहुत कम लोगों की यह काबिलियत होती है। इसलिए अधिकांश लोगों को उन आत्मानुशासित वेदपुरुष के मार्गदर्शन में रहने को कहा।जो कि निरहंकार भाव से देखने पर आसान विकल्प है सुखकर भी। If benefit is the same then why carry the burden of freedom.जो तो आत्मनियंत्रण से अथवा स्वेच्छा से किसी के नियंत्रण में रहकर प्रकृति के नियमों का पालन करते हुए निर्दिष्ट दायित्वों का निर्वाह करता है वह उन दायित्वों से मुक्त होकर अधिकाधिक आनन्द अनुभव करता है।इसके विपरीत स्वेच्छाचारी अधिकाधिक बंधनों मे जकड़ता चला जाता है।

उद्धरेदात्मनात्मानं नात्मानमवसादयेत्।आत्मैव ह्यात्मनो बन्धुरात्मैव रिपुरात्मनः।।बन्धुरात्मात्मनस्तस्य येनात्मैवात्मना जितः।आत्मनस्तु शत्रुत्वे वर्तेतात्मैव शत्रुवत्।।जितात्मनः प्रशान्तस्य परमात्मा समाहितः। श्रीमद्भगवदगीता 6.5-6

अपना उद्धार करे न की अपने आप को गिरा दे। स्वयं ही अपना बंधु है, जिसने अपने आप को जीत लिया। अन्य व्यक्ति जिसका इंद्रिय एवं चित्त स्वयं के वश में नही है, वह तो स्वयं ही स्वयं का शत्रु है। जितात्म-प्रसन्नचित्त व्यक्ति के परमात्मा सदैव पास ही है। 

आइये! वेदों के प्रकाश मे अपने स्त्रीत्व को खोजे व सही अर्थों मे स्वतंत्रता प्राप्त करे।

– Mrs. Suvrata Vinod, Anandavan Bhakta Samudaya, Institute of Advanced Studies in Veda and Science.

हिन्दी की संपर्क भाषा शक्यता

– प्रोफेसर बलराम सिंह, सदस्य, बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर, वेव्स

Dr Bal Ram Singh

Bal Ram Singh, Ph.D., Professor and President of the Institute of Advanced Sciences, has been Professor (1990-2014) of Chemistry and Biochemistry, and Biology, and the Founding Director (2000-2014) of Center for Indic Studies at UMass Dartmouth. At the Institute, he is also the Executive Mentor of the School of Indic Studies where his research includes Ayurvedic science and technology, Yoga and Consciousness, Vedic education pedagogy, and Vedic social and political traditions.

जहाँ पर भाषा किसी समाज की सभ्यता एवं संस्कृति की धरोहर तथा संयोजक होती है वहीं पर इसमे विविधता की क्षमता देश और काल की अनुकूलता को सम्बल देती है। भाषा की विविधता जिस तरह से भारत में दृष्टिगोचर होती है ऐसा किसी और देश में नही है। ऐसी अवस्था में संपर्क भाषा की नितांत आवश्यकता है। भारत के आज की राजनीतिक एवं सामाजिक सन्दर्भ में किसी एक भारतीय भाषा का संपर्क भाषा के रूप में उभरना सरल नही है। हिन्दी, ही इस प्रयोजन के लिए उपयुक्त है जो कि एक राष्ट्रीय एवं कार्यकारणी भाषा के रूप में संवैधानिक तौर पर प्रतिष्ठित है।

परन्तु इसे सर्वमान्य बनाने के लिए सरकार तथा समाज को कई गंभीर कदम उठाने होंगे। सर्वप्रथम इस विषय पर सार्वजानिक रूप से बौद्धिक चर्चाएं होनी चाहिऐ जिसमें हर वर्ग के लोगों को सम्मिलित करना होगा। चूँकि हिन्दी भाषा का विकास पहले से संघर्षमय परिस्थितियों में हुआ है, इसलिए इसमें परिस्थितियों के अनुकूलन की क्षमता अन्तर्निहित है। इस तरह हिन्दी में हिदुस्तानी भाषाओं से सम्बंधित भाषाओं के शब्दों एवं विचारों को समाहित करने की व्यवस्था पहले से ही विकसित है।  दूसरी बात जोकि ज्यादा जोर देने की है, वह यह कि हिन्दी भाषा को ज्ञान, विज्ञान, तथा व्यवसाय की औपचारिक भाषा बनाना होगा। यह क्षमता भी हिन्दी में इसके संस्कृत निष्ठ होने के कारण निहित है, परन्तु शासकीय, सामाजिक एवं प्रज्ञात्मक बल की आवश्यकता है। अंततः हिन्दी को संपर्क भाषा बनाने के लिए इसका वैष्वीकरण करना होगा जिससे यह प्रतिस्पर्धात्मक चरण से उठकर सार्वभौमिक रूप में स्वीकारणीय हो सके। इसके लिए भारतीय परम्परागत जीवन के सारभूतों को विश्व के समक्ष हिन्दी के माध्यम से रखना होगा।

hindi_text_detail

इस कार्य की सम्पन्नता के लिए एक विस्तृत रणनीति की आवश्यकता है। इसमे सर्वप्रथम है कि हिन्दी को केवल एक संपर्क भाषा के रूप मे ही देखा जाय, एक सांस्कृतिक भाषा के रूप मे नहीं।सांस्कृतिक उदगार के लिये भारत की क्षेत्रीय भाषाएँ पर्याप्त हैं। इस प्रक्रिया को अविलम्ब संबल हेतु यह आवश्यक है कि भारत की अन्य कई सांस्कृतिक भाषाओँ को हिंदी भाषा मे जोड़ने की प्रक्रिया तुरंत स्थगित कर दी जाय। इनमे मगधी, मैथिली, भोजपुरी, अवधी, ब्रजभाषा, बुन्देलखण्डी, हरियाणवी, इत्यादि भाषाएँ सम्मलित हैं, जिनका गौरव पूर्ण इतिहास, साहित्य, एवं सामाजिक उपयोगिता सदियों से चली आ रही है। जब से इन भाषाओ को हिन्दी में सम्मिलित कर लिया गया है, न केवल इन भाषाओं का विकास रुक गया है वल्कि उसके साथ ही इन भाषाओं मे सन्निहित संस्कृति भी दुबक कर रह गई है। हिन्दी सम्बंधित क्षेत्रीय भाषाओँ को अलग सम्मानित करने से अन्य क्षेत्रीय भाषीय लोगो का हिन्दी के प्रति विरोध भी कम हो जायेगा क्योकि ऐसी स्थिति में किसी एक क्षेत्र को भाषाई लाभ का तर्क प्रभावहीन साबित होगा।