हमारा सपना ‘आत्मनिर्भर भारत’

डा. अपर्णा (धीर) खण्डेलवाल

माननीय प्रधानमंत्री के “आत्मनिर्भर भारत” मंत्र को जन-जन तक फैलाना है।

नूतन संकल्प-शक्ति के साथ इसे, नूतन पर्व के रूप में मनाना है,

भारत को आत्मनिर्भर बनाना है…..बनाना है॥१॥

आत्मबल से गुँथा हुआ, आत्मविश्वास से भरा हुआ।

आत्मनिर्भर भारतीय से ही, विश्वपटल पर भारत को चमकाना है,

भारत को आत्मनिर्भर बनाना है…..बनाना है॥२॥

दिखा दो हे भारतवासियों! अपनी लग्न और कुशलता।

कर्मठता की पराकाष्ठा से ही होगा, सपना आत्मनिर्भर बनने का पूरा,

भारत को आत्मनिर्भर बनाना है…..बनाना है॥३॥

अर्थ-केंद्रित समाज को मानव-केंद्रित बनाना है।

वैश्वीकरण का रूप बदलकर, विश्व को भारत के रंग में ढालना है,

भारत को आत्मनिर्भर बनाना है…..बनाना है॥४॥

जीव मात्र का कल्याण जिसकी संस्कृति का चिंतन।

ऐसे भारत के संस्कार, जीवन-पद्धति में लाना है,

भारत को आत्मनिर्भर बनाना है…..बनाना है॥५॥

विश्व-प्रगति और कल्याण जिसके ध्येय में हो ध्यान।

ऐसे भारत ने पढ़ाया, “वसुधैव कुटुम्बकम्” का पाठ,

भारत को आत्मनिर्भर बनाना है…..बनाना है॥६॥

सुख, संतोष, सशक्त है, आत्मनिर्भरता के प्रतीक।

सजग भारत का सपना, इसी से पूरा करना है,

भारत को आत्मनिर्भर बनाना है…..बनाना है॥७॥

ग्रामीण विकास से लेकर “Make in India” के द्वारा।

“Quality products” से “Supply-chain” को मजबूत करना, है भारत का दावा,

भारत को आत्मनिर्भर बनाना है…..बनाना है॥८॥

“Vocal for Local” ज़रूरत नहीं, ज़िम्मेदारी है|

गर्व से प्रचार करो, Local को Global बनाने के लिये,  

भारत को आत्मनिर्भर बनाना है…..बनाना है॥९॥

अर्थव्यवस्था के पांच स्तम्भों (इकोनॉमी, इंफ्रास्ट्रक्चर, सिस्टम, डेमोग्राफी और डिमांड) पर खड़ा यह नया भारत।

रफ़तार से आधुनिकता के साथ, युवा ऊर्जा से सम्पन्न, भारत है डिमांड का क्षेत्र,

भारत को आत्मनिर्भर बनाना है…..बनाना है॥१०॥

इन्हीं सपनों को साकार करने खड़ा हुआ है भारतवंश।

उम्मीद की किरण लिये गरिमामय है भारतवर्ष,

भारत को आत्मनिर्भर बनाना है…..बनाना है॥११॥

छोटे से जीवाणु ने समस्त विश्व को किया है त्रस्त।

संकट के इस दौर से, उभारना है विश्व को,

भारत को आत्मनिर्भर बनाना है…….बनाना है॥१२॥

ठान ले तो, कोई राहा, कोई संकल्प मुश्किल नहीं।

इस अवसर से हो सके तो, पुनः बना लो भारत को “सोने की चिड़िया”,

भारत को आत्मनिर्भर बनाना है…….बनाना है …..बनाना है॥१३॥

Dr. Aparna (Dhir) Khandelwal, Assistant Professor, School of Indic Studies, INADS, Dartmouth

7 thoughts on “हमारा सपना ‘आत्मनिर्भर भारत’

  1. आत्मनिर्भर भारत अभियान की संकल्पना राष्ट्र के दिव्योदय का सबल संकेत है। भारतवर्ष धर्म,कला-संस्कृति, योग-आयुर्वेद एवं स्वयं को सशक्त-समर्थ बनाने वाली विविध विद्या और विधाओं का मूल है। राष्ट्रोत्थान हेतु आत्मनिर्भर भारत अभियान के लिए स्वदेशी आचरण श्रेयस्कर है। अपर्णा! आपने प्रधानमन्त्री जी के इस मन्त्र को काव्य रूप देकर अत्यधिक प्रभावशाली शैली में प्रस्तुत किया है। सृजन सकारात्मक हो तभी सार्थक है। बहुत-बहुत बधाई, शुभकामनाएं एवं स्नेह आशीष।

    Liked by 1 person

  2. (Comments received via Facebook)

    Very well penned down 👍💐
    by – Mrs. Sakshi Singhal, Delhi

    Well Done.
    by – Mrs. Deepa Kapoor, Delhi

    Great!
    by – Mrs. Poonam Chadha Singh, Delhi

    डाक्टर अपर्णा धीर खंडेलवाल को शानदार जानदार संदेश के लिए साधुवाद
    by – Rajendra Nath Pandeya, Delhi

    Like

  3. (Comments received via Wats App)

    Wow Aparna, I saw this aspect of your talent for the first time.
    Bravo. Keep it up. God bless you
    by – Dr. Raj Kumari Trikha, Delhi

    Ati uttam.
    Very natural flow 👌
    by – Brig. (Dr.) JS Rajpurohit, Gorakpur

    अच्छी कविता है, भावपूर्ण । विचार पूर्ण रचना।
    ऐसे ही आगे भी लिखती रहो।
    by – Prof. Shashi Tiwari, Delhi

    You Rock!
    Well done, so proud of you.
    by – Mrs. Deepika, Delhi

    A very significant poem.
    Congratulations
    by – Dr. Shakuntla, Assam

    Ultimate didi
    by – Mrs. Vanika Lamba, Delhi

    Very good Aparna.
    Proud of u. 👍
    by – Dr. Maithli Mishra, Rajasthan

    Well done!
    by – Mrs. Sonia Chhatwal, Delhi

    सुंदर कविता।
    by – Dr. Pravesh Saxena, Delhi

    अपर्णा, बहुत सुंदर कविता
    by – Dr. Lalita Juneja, Haryana

    God bless for writing such a nice Kavita
    by – Dr. Anju Seth, Delhi

    Very nice 👍
    by – Mrs. Shuba Rawal Wadhawan, Delhi

    Bhut sunder poem .
    Congrats Aparna
    by – Dr. Ajay Jha, Delhi

    सुंदर कविता है इसमें शब्द संयोजना अच्छी प्रकार से की गई है।
    बधाई
    by – Dr. Dinesh Chandra Shastri, Haridwar

    Very impressive lines👌👌
    by – Mr. Sushil Kumar Mishra, UP

    Quite inspiring and creative
    by – Dr. Abhishek Dubey, Bihar

    Very nice👍👍👍👍
    Proud of u sister.
    by – Mrs. Neeru Malhan, Delhi

    Wow superb Dr. Aparna!
    by- Mrs. Neelu Arora, Delhi

    Bahot umdah evam achchi Kavita hai Didi.
    Sare deshvasiyon ko atmanirvar banna hi padega.
    by – Dr. Tahasin Modal, Aligarh

    Very well said ma’am
    by – Ms. Akanksha Shree, Delhi

    Very nice
    by – Ms. Anuja Sinha, Delhi

    Nice composition.
    Keep doing good job Aparna!
    by – Mrs. Rajni Bhalla, Delhi

    बहुत खूब!
    by – Mrs. Asha, Delhi

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s